Home ज्योतिष Solar Eclipse 2019: भारत सहित दुनियाभर के देशों में आज देखा जा...

Solar Eclipse 2019: भारत सहित दुनियाभर के देशों में आज देखा जा रहा है सूर्य ग्रहण का नजारा

177
0

Solar Eclipse 2019: , Surya Grahan kab hai, date and time, Live Streaming साल 2019 पूरा होने को है और इस साल का अंतिम सूर्य ग्रहण भी आप सभी को देखने को मिलेगा। इस साल का अंतिम सूर्य ग्रहण दिसंबर महीने की 26 तारीख को लगने जा रहा है। यह सूर्य ग्रहण वलयाकार होगा, जिसमें सूर्य एक आग की अंगूठी जैसे दिखाई प्रतीत होगा। भारत में भी साल के अंतिम सूर्य ग्रहण को देखा जा सकेगा। भारत में सूर्य ग्रहण 8 बजकर 17 मिनट से लेकर 10 बजकर 57 मिनट तक दिखाई देगा। भारत के अलावा यूरोप, एशिया, उत्तर-पश्चिम ऑस्ट्रेलिया और पूर्वी अफ्रीका में भी इसे देखा यह खूबसूरत नजारा दिखाई देगा। सूर्य ग्रहण से कई राशियों पर भी इसका असर देखने को मिलेगा।

Solar Eclipse 2019: भारत में कब और किस समय दिखाई देगा साल का आखरी सूर्य ग्रहण
Solar Eclipse 2019: भारत में कब और किस समय दिखाई देगा साल का आखरी सूर्य ग्रहण

सूर्य ग्रहण कब है?

दिसंबर महीने की 26 तारीख को लगने वाले सूर्य ग्रहण भारत में भी दिखाई देगा। ऐसे में इससे पहले सूतक काल भी शुरू हो जाएगा। मान्यता के अनुसार सूतक काल के समय किसी भी प्रकार का कोई शुभ कार्य नहीं किया जाता। इस दौरान मंदिरों के कपाट भी बंद कर दिए जाते है। इस समय पूजा-पाठ को अच्छा नहीं माना जाता। सूतक काल २क समय 25 दिसंबर को शाम 5 बजकर 33 मिनट से शुरू होकर 26 दिसंबर सुबह 10 बजकर 57 मिनट तक रहेगा।

Surya Grahan 2019: सूर्य ग्रहण पर बरतें सावधानियां, जानिए! क्या करना चाहिए और क्या नहीं

surya grahan kab hai

इस साल का अंतिम सूर्य ग्रहण दिसंबर की 26 तारीख को लगेगा जो भारतीय समय के अनुसार 8 बजकर 4 मिनट पर लगेगा और 10 बजकर 56 मिनट तक रहेगा।

भारत में कहा दिखाई देगा साल का आखरी सूर्य ग्रहण? सूर्य ग्रहण का नजर दक्षिण भारत के कुछ हिस्सों में देखा जा सकता है। केरल में चेरुवथुर में इस खूबसूरत नजारे को साफ तौर से देखा जा सकता है।

चंद्र ग्रहण 2019: जाने कब और किस समय होगा चंद्रग्रहण


इस बार सूर्य ग्रहण वलयाकार होगा। ऐसा तब होता है जब चंद्र पृथ्वी से बहुत दूर होते हुए भी पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है। लेकिन इस प्रक्रिया के दौरान चंद्रमा पूरी तरह से पृथ्वी को अपनी छाया देने में असफल रहता है। इस वजह से ग्रहण के समय सूर्य के बाहर का भाग ही प्रकाशित रहता है और सूर्य एक आग से भरी अंगूठी की तरह का दिखाई पड़ता है। इस खूबसूरत नजारे को वलयाकार सूर्य ग्रहण के रूप में जाना जाता है। सूर्य ग्रहण की घटना अमावस्या के दिन घटित होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here