Home तथ्य जाने सुषमा स्वराज के जीवन से जुड़ी ये 10 बातें, जिनके लिए...

जाने सुषमा स्वराज के जीवन से जुड़ी ये 10 बातें, जिनके लिए सुषमा हमेशा याद की जाएंगी

32
0

जाने सुषमा स्वराज के जीवन से जुड़ी ये 10 बातें, जिनके लिए सुषमा हमेशा याद की जाएंगी :- देश की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का कल 6 अगस्त मंगलवार रात को दिल का दौरा पड़ने की वजह से दिल्ली के एम्स में इलाज के दौरान निधन हो गया है। मोदी कैबिनेट में मंत्री रही सुषमा स्वराज देश की दूसरी महीना विदेश मंत्री थी जिन्होंने 67 साल की उम्र में आखरी साँस ली। सुषमा स्वराज के निधन की खबर सामने आने के बाद देश और विदेश से लोगों का उन्हें सुषमा स्वराज का निधन श्रद्धांजलि देने वालों का ताँता लगा हुआ है। सुषमा स्वराज एक ऐसी सख्सियत थी जिन्हे हर कोई पसंद करता था। सुषमा स्वराज के बारे में कुछ अनसुनी और अनकही बातें जिन्होंने सुषमा स्वराज को आम से खास बना दिया और वह हमेशा के लिए लोगों के दिलों में राज करती रहेंगी। सुषमा स्वराज अंतिम संस्कार

सुषमा स्वराज के जीवन से जुड़ी ये 10 बातें

1. सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 को हरियाणा के अंबाला छावनी में हुआ था।

2. सुषमा स्वराज के पिता का नाम हरदेव शर्मा और माता का नाम लक्ष्मी देवी।

3. सुषमा स्वराज ने अंबाला छावनी महाविद्यालय से ग्रेजुएशन किया और फिर चंडीगढ़ में पंजाब विश्वविद्यालय से एलएलबी की पढ़ाई की। जे ओम प्रकाश का निधन

4. डिबे प्रतियोगिता, वाद-विवाद, गायन, नाटक और अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों में उन्होंने कई अवॉर्ड जीते हैं। वह 4 साल तक हरियाणा राज्य के हिंदी साहित्य सम्मेलन की अध्यक्ष भी रहीं।

5. सुषमा स्वराज ने एक वकील के तौर पर अपने करियर की शुरुआत करते हुए, साल 13 जुलाई 1975 सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील स्वराज कौशल के साथ शादी के बंधन में बंध गई।

Unknown Facts About Sushma Swaraj

6. सुषमा स्वराज ने 1970 में एक छात्र नेता के रूप में अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की

7. दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री और बाद में विपक्ष की पहली महिला नेता बनने गौरव सुषमा स्वराज को मिला।

Sushma Swaraj Death Reason

8. वह 27 साल की सबसे कम उम्र में हरियाणा में जनता पार्टी की अध्यक्ष बनी।

9. सुषमा स्वराज 25 साल की उम्र में सबसे कम उम्र की कैबिनेट मंत्री का दर्जा हासिल है।

10. साल 2008 और 2010 में दो बार सर्वश्रेष्ठ सांसद का पुरस्कार मिल चुका है। वो पहली एक मात्र महिला सांसद हैं, जिन्हें ‘उत्कृष्ट सांसद’ का पुरस्कार भी मिल चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here