Home मनोरंजन Sacred Games Season 2 Episode 1 Written Updates! पढ़ें सेक्रेड गेम्स 2...

Sacred Games Season 2 Episode 1 Written Updates! पढ़ें सेक्रेड गेम्स 2 वेब सीरीज का पहला एपिसोड

71
0

Sacred Games Season 2 Episode 1 Written Updates! पढ़ें सेक्रेड गेम्स 2 वेब सीरीज का पहला एपिसोड :- इस स्वतंत्रता दिवस पर नवाजुद्दीन सिद्दीकी और सैफ अली खान स्टारर नेटफ्लिक्स वेब सीरीज सेक्रेड गेम्स का सीजन 2 रिलीज हो गया है। नेटफ्लिक्स की इस वेब सीरीज का दर्शकों लंबे समय से इंतजार था जिसके अब सभी एपिसोड की लॉन्च हो चुके है। वेब सीरीज के टीजर में गणेश गायतोंडे ने कहा था की नींद का बलिदान देना होगा। इस वेब सीरीज के सभी 8 एपिसोड लॉन्च हो चुके है। इस आर्टिकल में हम आपको सेक्रेड गेम्स सीजन 2 एपिसोड 1 का रिटन अपडेट दे रहे है। सेक्रेड गेम्स 2 वेब सीरीज का दूसरा एपिसोड

सेक्रेड गेम्स सीजन 2 के पहले एपिसोड की शुरुआत समुद्र में एक तैरता हुआ जहाज नजर आता है, इस जहाज में गणेश गायतोंडे कैद है, गणेश गायतोंडे को खाने के लिए मछली देते है लेकिन वह नहीं खाता। गायतोंडे डायलॉग बोलता है अपुन कौन था मालूम नहीं और इधर कौन लाया मालूम नहीं। गायतोंडे बोलता है की सरदार जी जीवन खराब हो गया है और अब तुम्हारी बारी है।

Sacred Games Season 2 Episode 1 Written Updates

एक तरफ मुंबई पुलिस देश को बचाने में लगी होती है तो वही दूसरी तरफ गायतोंडे की स्टोरी चलती है। जिस थाली में गायतोंडे को खाना मिलता है वह उसी की मदद से वहां से भागने की कोशिश करता है। वह बाहर निकलने में कामयाब हो जाता है। फिर उसे एक मेडम मिलती है जिसका नाम है यादव जी मैम और उनके साथ आता है त्रिवेदी. इसके बाद उसे वह उसे अफ्रीका के केन्या के मोम्बासा ले जातें हैं।

मुंबई में गायतोंडे का सफाया हो रहा होता है और पुलिस बंटी, कांता को गिरफ्तार करके ले जाती है। गायतोंडे का गोपालमठ बन चुका था साल 1993 था. सुमन यादव मैडम उसे यह कहकर ले जाती है कि तुझे ईशा से भी बदला दिलवा दुंगी और तुम्हारे साथियों को भी जेल से बाहर निकलवा देंगें. इसके साथ ही त्रिवेदी ने गायतोंडे के तीसरे बाप यानी पंकज त्रिपाठी गुरुजी के ज्ञान से अवगत करवाया.

Watch Sacred Games Season 2 On Netflix 1st Episode

गुरुजी कह रहे थे कि भगवान विष्णु का पहला अवतार मत्स्य है इतनी देर में गायतोंडे मछली को फेंकते हुए कहता है कि मुझे मुर्गा चाहिए. इसके बाद वह त्रिवेदी और यादव मेडम के साथ मोम्बासा चला जाता और वहां से ही अपना धंधा यादव मेडम के साथ मिलाकर चलाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here