Home ज्योतिष होलिका दहन शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, कथा, महत्व

होलिका दहन शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, कथा, महत्व

42
0

होलिका दहन शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, कथा, महत्व (Holika Dahan): आपक सभी को हाली के पर्व की शुभकामनाएं! इस साल होली का पर्व 20 और 21 मर्द को देशभर में मनाया जाएगा| 20 मार्च को होलिका दहन का त्यौहार मनाया जाएगा और 21 मार्च की सुबह को देशभर के हर इससे में रंग वाली होली का त्यौहार धूम-धाम से मनाई जाएगी| होली के त्यौहार पर सभी प्रकर की दुश्मनी और दुःख को भूलकर लोग इस त्यौहार को अपनों के संग सेलिब्रेट करते है| होलका दहन का त्यौहार फाल्गुन मास की पूर्णिमा की रात को सेलिब्रेट किया जाता है| होलका दहन का सभु मुहूर्त, पूजा विधि, कथा, पूजन सामग्री के बारे आदि के बारे में नीचे देखे-

होलिका दहन शुभ मुहूर्त, पूजन विधि, कथा, महत्व

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त

होलका दहन का शुभ मुहूर्त इस साल पंचांग के मुताबिक भद्रा दशा होने के कारण रात 9 बजकर 1 मिनट से शुरू होगा और मध्यरात्रि 12 बजकर 20 मिनट तक रहेगा|

पूर्णिमा तिथि 20 मार्च सुबह 10 बजकर 44 मिनट से शुरू होकर अगले दिन 21 मार्च 7 बजकर 10 मिनट तक रहेगी| होलिका दहन के दिन हर साल भद्रा लगता है| जो होलिका दहन की स्तिथि बनाती है|

ऐसी मान्यता है की भद्रा को विघ्नकारक माना जाता है| ऐसे में इस समय होलिका का दहन अशुभ माना जाता है| यह नुकसानदेह भी हो सकता है| यही वजह है की भद्रा को छोड़कर होलिका दहन किया जाता है| ऐसा करने से किसी भी प्रकार के नुकसान से बचा जा सके| इस वर्ष भद्रा रात के दूसरे प्रहर में ही खत्म हो गया है। जिस वजह से दोषरहित काल में होलिका दहन किया जा सकेगा।

होलिका दहन के नियम
धर्मशास्त्रों के अनुसार निम्न तीन नियम हैं जिनका होलिका दहन के समय पालन करना आवश्यक होता है:-

1. फाल्गुन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा
2. रात का समय
3. भद्रा बीत चुकी हो

हैप्पी होली 2019 विशेस, मैसेज, शायरी, स्टेटस, कोट्स, इमेज|

होलिका दहन का पर्व विशेष तौर पर हिन्दू धर्म के लोगों के द्वारा मनाया जाता है| इस दिन घरों में विशेष पकवान बनते है और पूजा के लिए विशेष तैयारी की जाती है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here