रिक्शा चालक की बेटी स्वप्ना बर्मन ने जीता 18वें एशियाई खेलों में...

रिक्शा चालक की बेटी स्वप्ना बर्मन ने जीता 18वें एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल

0
SHARE

रिक्शा चालक की बेटी स्वप्ना बर्मन ने जीता 18वें एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल:
इंडोनेशिया में 18वें एशियाई खेल चल रहा है और भारत के खिलाड़ी इन स्पर्धाओं में अपना परचम लहरा रहे है| भारत ने अब तक 10 गोल्ड मैडल जीत लिए है और कई सिल्वर और रजत भी हासिल किए है| एशियाई गेम्स से रोजाना भारत के लिए अच्छी खबर आ रही है| भारत के खिलाड़ी एशियाई खेलों में इतिहास रच रहे है और एक इतिहास देश की बेटी स्वप्ना बर्मन ने भी रचा| जब उन्होंने हेप्टा थलन प्रतियोगिता में सर्वाधिक अंक प्राप्त कर गोल्ड अपने नाम किया| उनके लिए गोल्ड तक सफर इतना आसान भी नहीं था| स्वप्ना बर्मन ने कई कठिनाई का सामना करने के बाद गोल्ड जीतने में सफलता पाई है| स्वप्ना बर्मन पश्चिम बंगाल की जलपाईगुड़ी के घोष पाड़ा की रहने वाली है और उनके घर में स्वप्ना के गोल्ड जीतने की खबर मिलने के बाद खुशी की लहर चल पड़ी है|

रिक्शा चालक की बेटी स्वप्ना बर्मन ने जीता 18वें एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल

स्वप्ना गरीब परिवार से आती है| उनके पिता रिक्शा चला कर अपने परिवार का पेट भरते है| लेकिन कुछ समय उनके पिता को बीमारी की वजह से बिस्तर से नहीं उठ पाए है| घर की आर्थिक परेशानी के बावजूद स्वप्ना ने खेल को जारी रखा और आज उन्होंने देश और अपने माता-पिता का नाम रोशन कर दिया है|

एशियाई खेल 2018 पदक तालिका

पश्चिम बंगाल की स्वप्ना ने 18वें एशियाई खेलों की हेप्टाथलन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक अपने नाम कर इतिहास रच दिया है| स्वप्ना इस स्पर्धा में भारत की ओर से गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली खिलाड़ी है| इस स्पर्धा के अंतर्गत स्वप्ना ने कुल 7 स्पर्धाओं में भाग लिया| इसके दौरान उन्होंने 6026 अंक प्राप्त कर पहला स्थान हासिल किया| स्वप्ना के गोल्ड जीतने की खबर घरवालों को मिलने के बाद उनके घर में आस-पड़ोस से बधाई देने वालो का ताँता लगा है|

स्वप्ना की माँ बाशोना बेटी इस ऐतिहासिक पल को नहीं देख सकी क्योंकि वह तब प्रार्थना कर रही थी और स्वप्ना के जीतने की दुआ कर रही थी| बेटी के जीतने की खबर के बाद घर में लोगों का आने का दौर शुरू हो गया है| उनकी माँ के पास बेटी की इस जीत पर बोलने के लिए शब्द ही नहीं है|

स्वप्ना के पिता रिक्शा चलाकर परिवार का पेट पालते है लेकिन कुछ समय से बीमार होने की वजह से बिस्तर पर है| घर में आर्थक तंगी के बावजूद स्वप्ना ने हार नहीं मानी और हर परेशानी का डटकर मुकाबला किया| एक समय ऐसा भी आया जब स्वप्ना के पास अच्छे जूते भी नहीं थे| बता दें की स्वप्ना के दोनों पाव में छह उंगलियां और इसकी वजह से ही उन्हें लैंडिंग के समय काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है| यही कारण है की उनके जूते काफी जल्दी फट जाते है| जिसकी वजह से उनके काफी परेशानी का सामना करना पड़ा|