गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

0
SHARE

गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन: हर साल 2 अक्टूबर के दिन भारत के लोग गांधी जयंती मनाते है| भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी का जन्म 2 अक्टूबर को ही हुआ था| गाँधी जी ने भारत की आजादी में मुख्य योगदान दिया था| गांधी जी का पूरा नाम मोहन दास करमचंद गांधी था| गांधी जयंती के दिन पूरे देश में राष्ट्रिय छुट्टी होती है| लेकिन इससे एक दिन पहले और गांधी जयंती के दिन स्कूल, कॉलेज और अन्य शैक्षिक संस्थानों में स्पीच, भाषण, कविता, निबंध की प्रतियोगिता आयोजित की जाती है| आप इस पोस्ट की मदद से इन प्रतियोगिता में भाग ले सकते है|

गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

गांधी जयंती निबंध

इस साल देश महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने जा रहा है| इस साल गांधी जयंती पर कई खास प्रोग्राम भी देश में आयोजित होंगे| देश की आजादी में मुख्य योगदान देने वाले महात्मा गांधी को उनकी जयंती पर पूरा देश श्रद्धांजलि अर्पित करता है और सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ गांधी के विचारों को भी शेयर करते है|

गाँधी जयंती मैसेज, कोट्स, शायरी, SMS, इमेज

“गाँधी जयंती 3 राष्ट्रीय अवकाशों में से एक है (स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस)। भारत के राष्ट्रपिता अर्थात महात्मा गाँधी को श्रद्धाँजलि देने के लिये हर वर्ष 2 अक्टूबर को इसे मनाया जाता है। विशेष उत्सवों में से एक के रुप में इसे माना जाता है इसी वजह से 2 अक्टूबर को अपने देशभक्त नेता के प्रति सम्मान प्रदर्शित करने के लिये भारतीय सरकार द्वारा शराब की बिक्री जैसे बुरे कार्यों पर सख्ती से रोक लगा दी जाती है। 2 अक्टूबर 1869 वह दिन था जब इस महान नेता ने जन्म लिया। ये भारत के सभी राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों में मनाया जाता है।

गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

इस दिन को मनाने का एक बड़ा महत्व है; 15 जून 2007 को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा अहिंसा के अंतरराष्ट्रीय दिवस के रुप में 2 अक्टूबर को घोषित किया गया। इस राष्ट्रीय किंवदंती को सम्मान और याद करने के लिये गाँधी जयंती को मनाया जाता है, महात्मा गाँधी वह व्यक्ति थे जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिये अंग्रेजों के खिलाफ अपने पूरे जीवन भर संघर्ष किया।”

गांधी जयंती कविता

धोती वाले बाबा की
यह ऐसी एक लडा़ई थी
न गोले बरसाये उसने
न बन्दूक चलायी थी
सत्य अहि़सा के बल पर ही
दुश्मन को धूल चटाई थी
मन की ताकत से ही उसने
रोका हर तूफान को
हम श्रद्धा से याद करेगें
गाँधी के बलिदान को!!

ली सच की लाठी उसने
तन पर भक्ति का चोला
सबक अहि़सा का सिखलाया
वाणी में अमृत उसने घोला
बापू के इस रंग में रंग कर
देश का बच्चा- बच्चा बोला
कर देगें भारत माँ पर अर्पण
हम अपनी जान को
हम श्रद्घा से याद करेगें
गाँधी के बलिदान को!!

गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

चरखे के ताने बाने से उसने
भारत का इतिहास रचा
हिन्दू,मुस्लिम,सिख,ईसाई
सबमें इक विश्वास रचा
सहम गया विदेशी फिरंगी
लड़ने का अभ्यास रचा
मान गया अंग्रेजी शासक
बापू की पहचान को
हम श्रद्धा से याद करेगें
गाँधी के बलिदान को!!

गांधी जयंती स्पीच (भाषण)

गांधी जयंती पर भारत सही दुनिया के अलग हिस्सों में कई कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है| इन कार्यक्रम में गांधी जी के विचारों, उनके व्यक्तित्व, भारत की आजादी में उनके योगदान आदि के बड़े में लोगों को बताया जाता रहा है| गाँधी जयंती पर बड़े-बड़े कार्यक्रमों के माध्यम से गाँधी जी के अहिंसा के मार्ग पर चलने के बारे में आग्रह किया जाता है| गांधी जयंती पर भाषण देकर भावी की पीढ़ी को गाँधी जी के बारे में बताया जाता है|

गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

गांधी जयंती पोस्टर, स्लोगन

गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

गांधी जयंती निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन से जुड़ी हमारी यह पोस्ट आपको कैसी लगी, हमें कमेंट में बताए| आशा करते है की आपको यह पोस्ट जरूर पसदं आई होगी| इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें ताकि अधिक से अधिक लोग गाँधी जयंती के बारे में जान पाए| महात्मा गांधी से जुड़ी जानकारी को अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ शेयर करें|