Gujarat 10th Result 2019: GSEB इस तारीख को करेगा 10वीं कक्षा के...

Gujarat 10th Result 2019: GSEB इस तारीख को करेगा 10वीं कक्षा के नतीजे जारी

0
SHARE

Gujarat 10th Result 2019 Date: GSEB इस तारीख को करेगा 10वीं कक्षा के नतीजे जारी: गुजरात बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा के परिणाम का बेसब्री से इंतजार कर स्टूडेंट्स के लिए अच्छी खबर है| गुजरात सेकेंडरी एंड हायर सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड (GSEB) ने आज सवार 28 मई को गुजरात 10वीं के नतीजे घोषित कर दिए है| जिन छात्र-छात्रों ने गुजरात बोर्ड की दसवीं की परीक्षा में भाग लिया था वे सभी अब अपना परीक्षा परिणाम गुजरात बोर्ड की ऑफिसियल वेबसाइट पर विजिट करके ऑनलाइन अपने नाम और रोल नंबर की मदद से देख सकते है| बता दें की इस गुजरात बोर्ड की परीक्षा में पास प्रतिशत 67.50 रहा है| वही 72.69 फीसदी लड़कियां और 63.73 लड़के सफल हुए|

गुजरात बोर्ड 10th क्लास रिजल्ट 2018 घोषित हुआ, ऐसे करे चेक

गुजरात 10th रिजल्ट 2019

गुजरात सेकेंडरी एंड हायर सेकेंडरी एजुकेशन बोर्ड (GSEB) हर साल बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन प्रदेशभर में करवाता है और इस साल भी गुजरात बोर्ड परीक्षा का आयोजन करवाया था| एग्जाम में भाग लेने वाले सभी स्टूडेंट्स परीक्षा के सम्पन होने के बाद से ही गुजरात बोर्ड 10th रिजल्ट 2019 का इंतजार कर रहे थे| आज परिणाम घोषित होने से भी सभी छात्रों को राहत मिली है| बता दें की इस गुजरात बोर्ड की10वीं की परीक्षा में सावनी ईश्वरभाई ने पहला स्थान पाया है। उन्होंने 600 में से 594 अंक प्राप्त किए हैं।

बिहार बोर्ड मैट्रिक रिजल्ट 2019

GSEB 10वीं कक्षा परिणाम 2019

गुजरात बोर्ड की ऑफिसियल वेबसाइट पर सभी स्टूडेंट्स के रिजल्ट्स अपलोड कर दिए गए है| छात्र अपना रिजल्ट ऑफिसियल वेबसाइट के अलावा थर्ड पार्टी वेबसाइट की मदद से भी चेक कर सकते है| बता दें की पिछले गुजरात बोर्ड की मैट्रिक की परीक्षा में 10 लाख स्टूडेंट्स और ग्रेस मार्क्स मिलने के बावजूद नतीजे 68.24 प्रतिशत तक ही रहे थे| वही इस साल 2018 में 11 लाख छात्रों ने एग्जाम दिया था|

RPF Recruitment 2018: रेलवे करेगा 9000 कांस्टेबल की भर्ती, जाने कब से करे आवेदन

बता दें की स्टूडेंट्स को मार्क्स की जगह ग्रेड दिए जा रहे हैं। किसी भी छात्र-छात्रा को परीक्षा पास करने के लिए डी ग्रेड (33 से 40 नंबर) के बीच लाना होगा। वर्ष 2017 में 7 लाख स्टूडेंट्स परीक्षा में सम्मिलित हुए थे। इनमें से 68.24 प्रतिशत स्टूडेंट्स पास होने में कामयाब रहे थे। लड़कियों का उत्तीर्ण प्रतिशत लड़कों से ज्यादा था।