अक्षय नवमी 2018 शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, कथा, महत्व

अक्षय नवमी 2018 शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, कथा, महत्व

0
SHARE

अक्षय नवमी 2018 शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, कथा, महत्व (Akshay or Amla Navami Date): हिन्दू कैलेंडर के मुताबिक अक्षय नवमी या आंवला नवमी का त्यौहार हर साल कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष को मनाया जाता है| देशभर में अक्षय नवमी का पर्व बड़ी धूम-धाम के साथ आज 17 नवंबर को मनाया जा रहा है| अक्षय नवमी के दिन आंवले के पेड़ की पूजा की जाती है| अक्षय नवमी को आंवला नवमी के नाम से भी जाना जाता है| इस बार अक्षय नवमी का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, कथा, महत्व आदि के बारे आप यहाँ नीचे जाने और पूरे विधि विधान के साथ अक्षय नवमी का यह पवन त्यौहार मनाएं|

अक्षय नवमी 2018 शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, कथा, महत्व

अक्षय नवमी 2018

अक्षय नवमी का यह त्यौहार आंवले के पेड़ से जुड़ा हुआ है| इस दिन आंवले के पेड़ के नीचे बैठकर खाना खाया जाता है| अक्षय नवमी पर दान देने काफी शुभ माना जाता है| ऐसी मान्यता है की आंवले के पेड़ के नीचे भगवान विष्णु र भगवान शिव जी का वास है और इस दिन आंवले के पेड़ के नीचे बैठकर भगवान का ध्यान करने से सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है|

पढ़िए! शेरावाली माता की सवारी शेर ही क्यों है?

अक्षय नवमी 2018 पूजा विधि

हिन्दू धर्म की पौराणिक कथा के अनुसार ऐसी मान्यता है की इस दिन माता लक्ष्मी ने भगवान विष्णु जी की आंवले के पेड़ के रूप में पूजा अर्चना की थी और फिर इस पेड़ के नीचे बैठकर उन्होंने भोजन किया था| एक अन्य मान्यता है की भगवान श्रीकृष्ण ने कंस का वध करने से पहले तीन वनों की परिक्रमा की थी| अब भगवान कृष्ण के भक्त मथुरा-वृंदावन की परिक्रमा करते है|

अक्षय नवमी कथा, महत्व

इस दिन आंवले के पेड़ की 108 बार परिक्रमा करने से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है| ऐसा करते समय कच्चा सूत भी साथ में लपेटे|

अक्षय नवमी का शुभ मुहूर्त-

अक्षय नवमी या आंवला नवमी का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजे से रात 12 बजे तक है| शुभ मुहूर्त पर पूजा अर्चना करने से सुख की प्राप्ति होती है|