Delhi लोकसभा चुनाव रिजल्ट 2019: केजरीवाल को झटका, दिल्ली की सातों सीटों...

Delhi लोकसभा चुनाव रिजल्ट 2019: केजरीवाल को झटका, दिल्ली की सातों सीटों पर भाजपा का कब्जा

0
SHARE

Delhi लोकसभा चुनाव रिजल्ट 2019: केजरीवाल को झटका, दिल्ली की सातों सीटों पर भाजपा का कब्जा :- लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों से यह साफ हो गया की देश में मोदी लहर बड़ी ही जबरदस्त तरीके से चली और अब भी देश के लोग नरेंद्र मोदी को पीएम के तौर पर देखना चाहते है| मोदी लहर में राजधानी दिल्ली की सभी सातों सीटों पर बीजेपी ने जीत हासिल की| ऐसा दूसरी बार हो रहा है जब भाजपा ने दिल्ली की सभी सात लोकसभा सीटों पर विजय हासिल की है| 19 मई को जारी हुए एग्जिट पोल के रिजल्ट में ही यह बता दिया गया था की दिल्ली में बीजेपी ही जीतेगी| नहीं चला केजरीवाल का जादू, दिल्ली के लोकसभा के चुनाव में करिश्माई तरीके से जीत हासिल करके दिल्ली की सत्ता में आने वाली आम आदमी पार्टी का लोकसभा में जादू नहीं चल, दिल्ली में अपनी अच्छी पकड़ का दावा करने वाली कांग्रेस भी इस बार मोदी लहर के सामने नहीं टिक पाई|

केजरीवाल को झटका

दिल्ली की 7 लोकसभा सीटों पर आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पार्टी ने जीत के लिए काफी कोशिश की थी लेकिन अंत में बीजेपी बाजी मार गई| चुनाव में अपने करियर की शुरुआत कर रहे क्रिकेटर गौतम गंभीर, सूफी गायक हंस राज हंस को टिकट दिया था जिहोने अच्छा प्रदर्शन करते हुए जीत हासिल की| आप दिल्ली में केजरीवाल के दम पर चुनाव लड़ रही थी जिसका उसे कोई फायदा नहीं मिला|

दिल्ली की सत्ता में 15 साल तक राज करने वाली शीला दीक्षित इस बार लोकसभा चनाव में अपनी किस्मत आजमा रही थी लेकिन वह भी चुनाव हार गई| दिल्ली की जनता का अब शीला दीक्षित पर विश्वास नहीं रहा जिसका खामियाजा शीला को अपनी हार से लग ही गया होगा| लोगों ने कांग्रेस और आप पर लोकसभा चुनाव में रूचि नहीं दिखाई| विधानसभा चुनाव में 70 में से 67 सीटें जीतने वाली आम आदमी पार्टी को यदि यहां से एक भी सीट नहीं मिलती है तो इसका मतलब साफ है कि दिल्ली की जनता अब इनके शासन से मुक्ति चाहती है इसी वजह से लोकसभा में सभी नेताओं को नकार दिया गया है।

दिल्ली की सातों सीटों पर भाजपा का कब्ज़ा

आम आमदी पार्टी ने लोकसभा की दिल्ली में एक भी सीट नहीं जीती है| ऐसे में अब दिल्ली विधानसभा के लिए यह आप पार्टी के लिए यह किसी खतरे की घंटी से कम नहीं है| पहले दिल्ली में त्रिकोणीय मुकाबला लग रहा था लेकिन फिर एग्जिट पोल और फिर चुनाव के परिणाम आने के बाद यह साफ हो गया की दिल्ली में मुकाबला एक तरफा रहा|