इतने लाख रूपये में नीलाम हुआ महात्मा गाँधी का यह पत्र

इतने लाख रूपये में नीलाम हुआ महात्मा गाँधी का यह पत्र

0
SHARE

इतने लाख रूपये में नीलाम हुआ महात्मा गाँधी का यह पत्र: अमेरिका के बोस्टन में महात्मा गाँधी के द्वारा लिखा गया बिना तारीख वाला पत्र 6358 डॉलर (4,59,301 रुपए) में नीलम कर दिया गया है| इस पत्र में गाँधी जी ने चरखे के महत्व को बताया है| इस बात की जानकारी अमेरिका के आरआर ऑक्शन ने दी| ऑक्शन हाउस ने अपने बयान में कहा की यह पत्र गुजराती भाषा में लिखा है और यह यशवंत प्रसाद नाम के व्यक्ति को संबोधित है| इस पत्र में गाँधी जी ने लिखा है की- ‘हमें मिलों से जो उम्मीद थी वही हुआ है।’ उन्होंने लिखा है, ‘यद्यपि आप जो कहते हैं वह सही है, सब कुछ करघे पर निर्भर करता है।’

इतने लाख रूपये में नीलाम हुआ महात्मा गाँधी का यह पत्र

उन्होंने कहा की चरखे के बारे में गाँधी जी का का वर्णन काफी महत्वपूर्ण है, ऐसा इसलिए क्योंकि उन्होंने इसे आर्थिक आजादी के प्रतीक के तौर पर पेश भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान महात्मा गाँधी ने चरखे के लिए सभी को प्रोत्साहित किया था| उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान रोजाना खादी की कताई में व्यस्त रहने का आह्वान किया था| उन्होंने आजादी की लड़ाई के दौरान खादी पहनने की गुजारिश की थी|

जैन मुनि तरुण सागर का 51 वर्ष की उम्र में निधन, आज 3 बजे होगा अंतिम संस्कार

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा देश भर के अलग शहरों में मुशायरो का आयोजन करेगा जो महात्मा गाँधी क संदेश और उन्हें सिद्धांतो पर आधारित होंगे| इन मुशायरो का आयोजन मुंबई, लखनऊ, चंडीगढ़, अहमदाबाद, बेंगलुरु, रांची आदि शहरों में किया जाएगा|

इन मुशायरो में कई मशहूर हस्तियां जैसे शायर-कवि गुलजार, जनाब वसीम बरेलवी, जनाब हसीब सोज़, जनाब मंज़र भोपाली, मोहतरमा नसीम निकहत, जनाब इक़बाल अशहर, जनाब सुरेन्द्र शजर, जनाब हसन कमाल, मोहतरमा शबीना अदीब, राजेश रेड्डी, जनाब मंसूर उस्मानी, जनाब पॉपुलर एजाज, जनाब एहसान कुरैशी शिरकत करेंगे| नकवी ने कहा की जहां इन मुशायरो से गाँधी जी के शांति और अहिंसा के संदेश को बढ़ावा दिया जाएगा तो वही इन कार्यक्रम से सामाजिक सौहार्द, भाईचारे आदि को भी बढ़ावा मिलेगा|