Home त्यौहार खर्ची पूजा 2019 निबंध Kharchi Puja Eassy in Hindi, English of Tripura...

खर्ची पूजा 2019 निबंध Kharchi Puja Eassy in Hindi, English of Tripura & Agartala

357
0

खर्ची पूजा 2019 निबंध Kharchi Puja Eassy in Hindi, English of Tripura & Agartala :- खर्ची पूजा दक्षिण भारत के राज्य त्रिपुरा के प्रमुख त्यौहारों में से एक है। खर्ची पूजा एक हिन्दू त्यौहार है। ये त्यौहार साथ दिनों तक बड़ी धूम-धाम के साथ हिन्दुओं के द्वारा मनाया जाता है। इस दौरान 14 हिन्दू देव-देवियों की पूजा अर्चना की जाती है। यह पर्व अगरतला में जुलाई या अगस्त महीने में मनाया जाता है। सप्ताह भर तक चलने वाली शाही पूजा जुलाई या अगस्त महीने में पड़ने वाली अमावस्या के आठवें दिन की जाती है। खर्ची पूजा निबंध, एस्से के बारे में जानकारी यहाँ इस पोस्ट में दी गई है। खर्ची पूजा 2019 मैसेज

त्रिपुरा के प्रमुख्य त्यौहार में से एक खर्ची पूजा का त्यौहार शुक्रवार से शुरू हो रहा है। साथ दिन तह चलने वाले इस तयार का आयोजन बड़ी हर्षोउल्लास के साथ किया जाता है। यह साल का वह समय है जब 14 हिन्दू देवी-देवताओं की पूजा बड़े शाही तरीके से की जाती है। हर साल इस त्यौहार को मनुष्यों के पापों का नाश करने के उद्देश्य के रूप में मनाया जाता है। यह सात दिवसीय त्यौहार है जिसका आयोजन पुरानी हवेली में किया जाता है जो किसी समय में त्रिपुरा की राजधानी हुआ करती थी। इस वार्षिक उत्सव में 14 हिंदू देवी-देवताओं की पूजा में शिव, दुर्गा, विष्णु, लक्ष्मी, सरस्वती, कार्तिक, गणेश, ब्रह्मा, अबधि (जल देवता), चंद्र, गंगा, अग्नि, कामदेव और हिमाद्री (हिमालय) शामिल हैं। खर्ची पूजा 2019 शायरी

खर्ची पूजा 2019 निबंध

This festival is also known as ‘Chaturdash or Chaudda—Devata Puja’ and is observed in the Tripura state.

…………………………

The place where the festival is celebrated is called ‘Chaturdash—Devatar or Chaudda—Devatar bari’. It is situated at old Agartala. The Chaturdash Devatas were the family deities of the Manikya dynasty, the former rulers of Tripura.

……………………………..

Till today, all the gods are daily worshipped by the priests, but on the eight day of the bright half of the month of Asara (June—July) a special worship called ‘Karchi Puja’ is performed for seven days in honour of the deities.

……………………………..

खर्ची शब्द ख्या शब्द से बना है जिसके अर्थ ‘पृथ्वी’ है। यह पूजा मुख्य रूप से पृथ्वी की पूजा करने के लिए की जाती है। सभी अनुष्ठान आदिवासी मूल के हैं, जिनमें चौदह देवताओं और मातृ पृथ्वी की पूजा शामिल है। माँ के मासिक धर्म के बाद के मासिक धर्म के चरण को साफ करने और पापों को धोने के लिए पूजा की जाती है। इस प्रकार लगातार सात दिनों तक पूजा की जाती है। पूजा के दिन, चौदह देवताओं को चन्ताई के सदस्यों द्वारा सईदरा नदी तक ले जाया जाता है।

Essay on kharchi puja

Kharchi Puja is one of the most important festivals of Tripura. Celebrated in the month of July, Kharchi Puja is a week long festival during which 14 gods are worshipped.

……………………………

Kharchi is derived from ‘khya’ which means ‘earth’ and hence, the festival is also known as the worship of earth. The main celebration takes place at the premises of the Chaturdasha Devta temple in the capital city Agartala.

देवताओं को पवित्र जल में स्नान कराया जाता है और उन्हें मंदिर में वापस लाया जाता है। उन्हें फिर से पूजा, फूल और सिंदूर चढ़ाकर मंदिर में रखा जाता है। पशु बलि भी इस त्योहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और इसमें बकरों और कबूतरों का बलिदान शामिल है। लोग भगवान को मिठाई और बलि चढ़ाते हैं। आदिवासी और गैर-आदिवासी दोनों एक साथ मिलकर त्योहार का उत्सव मनाते हैं और इसका हिस्सा बनते हैं। एक बड़े मेले और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ कई अन्य आकर्षण इस समय के दौरान आयोजित किए जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here