होली पर निबंध 2019 | Holi Essay in Hindi

होली पर निबंध 2019 | Holi Essay in Hindi

0
SHARE

होली पर निबंध 2019 | Holi Essay in Hindi: भारत के प्रमुख में से एक होली है| होली का त्यौहार पूरे देशभर में बड़ी ही धूम-धाम के साथ मनाया जाता है| होली के त्यौहार पर सभी लोग एक दूसरे से मनमुटाव मिटाकर गले लगते है और मिठाई खिलाकर इस दिन को सेलिब्रेट करते है| होली के दिन काफी सारी मस्ती और नाच गाना किया जाता है| होली के त्यौहार से पहले और बाद में देशभर में बच्चों में पेपर भी होते है और उनके एग्जाम में होली के त्यौहार पर निबंध लिखने पर भी आता है| Essay on Holi in Hindi, Holi Nibandh यानी की होली पर निबंध हिंदी में पेश कर रहे है| जिसे आप पढ़कर अपने एग्जाम में लिख सकते है और अच्छे मार्क्स प्राप्त कर सकेंगे|

होली पर निबंध 2019 | Holi Essay in Hindi

होली पर निबंध

होली का त्यौहार क्यों मनाया जाता है और होली के पर्व की आपको थोड़ी बहुत तो जानकारी होगी ही लेकिन इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद होली पर निबंध अच्छे से लिख पाएँगे जो आपको एग्जाम में अच्छे अंक दिलाने में सहायता करेगा|

“रंगो का त्योहार होली भारत के चार बड़े पर्वों में से एक है। यह पर्व फागुनी पूर्णिमा को होलिका दहन के पश्चात् चैत्र कृष्ण प्रतिपदा को धूमधाम से मनाया जाता है। यह रंगों संगीत और प्रेम का पर्व है। सभी लोग इस पर्व में बड़े उत्साह उमंग एवं मस्ती से भाग लेते हैं।

प्राचीन काल में हिरण्यकश्यप नाम का एक राजा हुआ था। वह स्वयं को परमात्मा कहकर अपनी प्रजा से कहता था कि वह केवल उसी की पूजा की जाए। बेचारी प्रजा क्या करती डरकर उसी की उपासना किया करती थी। उस का पुत्र प्रहलाद- जिसे कभी मुनि नारद ने आकर विष्णु का मंत्र जपने की प्रेरणा दी थी- अपने पिता की बात न मान कर भगवान् विष्णु ही का जप करता रहता था। अपने पुत्र के द्वारा की जाने वाली आज्ञा की यह अवहेलना हिरण्यकश्यप से सहन नहीं हुई और वह अपने पुत्र को मरवाने योजना बनायी। एक दिन उसकी बहिन होलिका-जो आग में जल नहीं सकती थी- प्रहलाद को लेकर जलती चिता में कूद गई। किन्तु प्रह्लाद का बाल-बाँका नहीं हुआ और होलिका भयानक आग में जलकर राख हो गई। इस प्रकार होली के त्योहार को एक भगवान द्वारा भक्त की रक्षा की स्मृति में एवं सत्य की असत्य पर विजय के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है।

राम जन्मभूमि कृष्ण जन्मभूमि तथा सीता की जन्मभूमि की होली का अलग-अलग अंदाज है। कृष्ण और गोपियों की होली की याद में राधा के गाँव बरसाने में होने वाली लट्ठमार होली विश्व प्रसिद्ध है। होली पर होली के गीत गाने का रिवाज है। ये गीत बड़े मस्ती-भरे होते हैं और लोकगायक इन्हें मस्त होकर गाते फिरते हैं।”