भाई दूज तिलक शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व

भाई दूज तिलक शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व

0
SHARE

भाई दूज तिलक शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व (Bhai or Bhaiya Dooj): देशभर में इस साल भाई दूज या भैया दूज का त्यौहार 9 नवंबर को मनाया जाएगा| भाई दूज का त्यौहार भाई-बहन के प्रेम, त्याग और स्नेह है प्रतीक है| भाई दूज के दिन महिलाएं, लड़कियां अपने भाई ओट तिलक करती है और उनकी लंबी आयु की कामना करती है| इस त्यौहार की रस्म भी रक्षाबंधन जैसी ही है| लेकिन भाई दूज पर तिलक का शुभ मुहूर्त क्या है? इसके बारे में आपको जान लेना चाहिए| भाई पूजा विधि और महत्व के बारे में भी जानिए यहाँ-

भाई दूज तिलक शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व

भाई दूज तिलक शुभ मुहूर्त,

हिन्दू कैलेंडर के मुताबिक भाई दूज का पर्व कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया के दिन मनाया जाता है| भाई दूज का त्यौहार दीपावली के दो दिन बाद सेलिब्रेट किया जाता है| भाई दूज पर भाई पर बहन को तोफा देने की भी परंपरा है|

भाई दूज विशेस | Bhai Dooj Wishes in Hindi

भाई दूज की तिथि और शुभ मुहूर्त 

द्वितीया तिथि प्रारंभ: 08 नवंबर 2018 को रात 09 बजकर 07 मिनट से
द्वितीया तिथि समाप्‍त: 09 नवंबर 2018 को रात 09 बजकर 20 मिनट तक

भाई दूज तिलक का मुहूर्त:

09 नवंबर 2019 को दोपहर 01 बजकर 16 मिनट से 03 बजकर 28 मिनट तक

भाई दूज की शुभकामनाएं संदेश | Bhai Dooj Ki Shubhkamnaye

पूजा की विधि-
बहन चावल के आटे से चौक बनाती है। इस पर भाई को विराजमान कर के उसकी पूजा करती है। भाई की हथेली पर चावल का घोल लगाके पान, सुपारी, पुष्प इत्यादि रखकर उसके हाथ पर जल गिराती है। अब बहन भाई की आरती उतरेगी और उसके उसके हाथों में कलावा बांधती हैं। अब बहन भाई को मिठाई खिलाएगी। भाई यदि बड़ा है तो बहन उसका पैर छूकर आशीर्वाद लेगी और यदि भाई छोटा है तो बहन का आशीर्वाद लेगा।