विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

0
SHARE

विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन World Population Day: आज विश्व जनसंख्या दिवस है जिसे अंग्रेजी भाषा में वर्ल्ड पॉपुलेशन डे के रूप में जाना जाता है| हर साल 11 जुलाई को दुनियाभर के देशो में विश्व जनसंख्या दिवस के रूप में बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है| इस दिवस को मनाने के पीछे का मकसद बढ़ती आबादी के लिए लोगों को जागरूक करना और उन्हें इसकी रोक के लिए सुझाव देना है| वर्ल्ड पॉपुलेशन डे या विश्व जनसंख्या दिवस पर स्कूल, कॉलेज आदि शैक्षणिक संस्थानों पर निबंध, कविता, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन आदि के माध्यम से बच्चों को जागरूक करने के लिए कई कार्यक्रम और प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है| आप नीचे इस विश्व जनसंख्या दिवस निबंध पढ़ सकते है जो आपको इस दिवस के बारे कई जानकारी देंगे|

विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

विश्व जनसंख्या दिवस निबंध

विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर दुनियाभर के देशों में कई कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है और इस दिन विश्व जनसँख्या दिवस से जुड़ी स्पीच के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाता है| बढ़ती जनसंख्या हर देश के लिए कई परेशानी लेकर आ रही है| जनसंख्या के बढ़ने से गरीब बढ़ रही और सिमित संसाधन होने की वजह से वे धीरे-धीरे लोगों की पहुँच से दूर होते जा रहे है|

  • 11 जुलाई को सालाना पूरे विश्व में विश्व जनसंख्या दिवस के रुप में एक महान कार्यक्रम मनाया जाता है। पूरे विश्व में जनसंख्या मुद्दे की ओर लोगों की जागरुकता को बढ़ाने के लिये इसे मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की संचालक परिषद के द्वारा वर्ष 1989 में इसकी पहली बार शुरुआत हुई। लोगों के हितों के कारण इसको आगे बढ़ाया गया था जब वैश्विक जनसंख्या 11 जुलाई 1987 में लगभग 5 अरब (बिलीयन) के आसपास हो गयी थी।
  • 2012 विश्व जनसंख्या दिवस उत्सव के थीम (विषय) के द्वारा पूरे विश्व भर में ये संदेश “प्रजनन संबंधी स्वास्थय सुविधा के लिये सार्वभौमिक पहुँच” दिया गया था जब पूरे विश्व की जनसंख्या लगभग 7,025,071,966 थी। लोगों के चिरस्थायी भविष्य के साथ ही ज्यादा छोटे और स्वस्थ समाज के लिये सत्ता द्वारा बड़े कदम उठाये गये थे। प्रजनन संबंधी स्वास्थ देख-रेख की माँग और आपूर्ति पूरी करने के लिये एक महत्वपूर्णं निवेश किया गया है। जनसंख्या घटाने के द्वारा सामाजिक गरीबी को घटाने के साथ ही जननीय स्वास्थ्य बढ़ाने के लिये कदम उठाये गये थे।

इंटरनेशनल डे अगेंस्ट ड्रग एब्यूज मैसेज, कोट्स, पोस्टर, स्लोगन, इमेज

  • ये विकास के लिये एक बड़ी चुनौती थी, जब वर्ष 2011 में पूरे धरती की जनसंख्या 7 बिलीयन के लगभग पहुँच गयी थी। वर्ष 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के संचालक परिषद के फैसले के अनुसार, ये अनुशंसित किया गया था कि हर साल 11 जुलाई को वैश्विक तौर पर समुदाय द्वारा सूचित करना चाहिये और आम लोगों के बीच जागरुकता बढ़ाने के लिये विश्व जनसंख्या दिवस के रुप में मनाना चाहिये तथा जनसंख्या मुद्दे का सामना करने के लिये वास्तविक समाधान पता करना चाहिये। जनसंख्या मुद्दे के महत्व की ओर लोगों का जरुरी ध्यान केन्द्रित करने के लिये इसकी शुरुआत की गयी थी।

वर्ल्ड पॉपुलेशन डे स्पीच

विकसित देशों के मुकाबले गरीब और विकसित देशों के लिए बढ़ती जनसंख्या चिंता का विषय है| सरकार जनसंख्या नियंत्रण के लिए कई योजनाएं चलाती है ताकि जनसंख्या पर नियंत्रण पाया जा सके| स्कूल, कॉलेज में इस दिन कई प्रोग्राम का आयोजन किया जाता जिसमें बच्चे विश्व जनसंख्या पर स्पीच देते है और निबंध प्रतियोगिता में भाग लेते है|

  • विश्व जनसंख्या दिवस की शुरूआत 11 जुलाई 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम द्वारा की गई थी। उस वक्त विश्व की जनसंख्या लगभग 5 अरब थी। इस जनसंख्या की ओर ध्यान देते हुए 11 जुलाई 1989 को वर्ल्ड पॉपूलेशन डे की घोषणा की गई।

वर्ल्ड पॉपुलेशन डे पोस्टर

विश्व जनसंख्या दिवस के मौके पर जनसंख्या से जुड़े कई प्रकार के मुद्दे उठाएं जाते है और उनका समाधान ढूंढने के लिए विचार विमर्श किया जाता रहा है| दुनिया के कई देशों में जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कड़े कानून है और जिसे नतीजा अच्छा रहा है| लेकिन कई देश ऐसे भी जहां पर जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कोई विशेष कानून नहीं है| जिसका एक उदहारण भारत भी है|

विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

विश्व पर्यावरण दिवस 2018 स्पीच, निबंध, पोस्टर, स्लोगन

विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

विश्व जनसंख्या दिवस 2018 स्लोगन

विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन विश्व जनसंख्या दिवस निबंध, स्पीच, पोस्टर, स्लोगन

भारत सरकार जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कई अभियान तो चलाती है लेकिन देश में अब तक कोई ऐसा ठोस कार्य नहीं किया गया है जिससे बढ़ती आबादी पर रोक लगाई जा सके| उम्मीद करते है की आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आई होगी| हमारी ऐसी ही अन्य पोस्ट को पढ़ने के लिए रोजाना विजिट करें|