पाकिस्तान के कार्यवाहक पीएम बनाए गए पूर्व मुख्य न्यायाधीश नसीरुल मुल्क

पाकिस्तान के कार्यवाहक पीएम बनाए गए पूर्व मुख्य न्यायाधीश नसीरुल मुल्क

0
SHARE

पाकिस्तान के कार्यवाहक पीएम बनाए गए पूर्व मुख्य न्यायाधीश नसीरुल मुल्क: पाकिस्तान के पूर्व मुख्य न्यायाधीश नसीरुल मुल्क को आगामी दो महीने के लिए सोमवार यानि की आज 28 मई को देश का करवाहक प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया है| आम चुनावों के बीच चल रही सत्तारूढ़ पीएमएल-एन और विपक्ष खींचतान अब नसीरुल मुल्क के कार्यवाहक पीएम बनने के बाद समाप्त हो गई है| बता दें की कार्यवाह पीएम मुल्क के नाम की घोषणा विपक्ष के नेता खुर्शीद शाह ने प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी और नेशनल असेंबली के स्पीकर एयाज सादिक के साथ बैठक करने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस कर की|

पाकिस्तान के कार्यवाहक पीएम बनाए गए पूर्व मुख्य न्यायाधीश नसीरुल मुल्क

विपक्षी नेता शाह ने उम्मीद जताई है कि 67 वर्षीय मुल्क 25 जुलाई को पाकिस्तान में स्वतंत्र, निष्पक्ष और बिना किसी पक्षपात के, सफलतापूर्वक चुनाव कराएंगे। पीएमएल-एन और विपक्ष के बीच कार्यवाहक प्रधानमंत्री के नाम को लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा था।

सरकारी बंगला खाली करने के मामले में मुलायम-अखिलेश पहुँचे सुप्रीम कोर्ट

बता दें की पाकिस्तान के कार्यवाह पीएम के नाम पर सहमति बनाने के लिए सरकार और विपक्ष के बीच छह बैठकें हुई। अब्बासी ने कहा, ‘कार्यवाहक प्रधानमंत्री के तौर पर उनकी (मुल्क) भूमिका देश और लोकतांत्रिक प्रक्रिया के पक्ष में होगी।’

नसीरुल मुल्क के नाम की घोषणा करते हुए शाह ने कहा कि नेशनल असेंबली के स्पीकर ने दोनों दलों के से एक समझौते पर पहुंचने में मुख्य भूमिका निभाई। वरिष्ठ पीपीपी नेता ने कहा, ‘हमने एक लोकतांत्रिक फैसला लिया है। मैं प्रधानमंत्री, स्पीकर का शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने धैर्य के साथ, भावनाओं को परे रखकर यह फैसला किया। जिस व्यक्ति का नाम मैं लेना चाहता हूं वह बहुत सम्मानीय हैं।’

मोमोज की मांग करने पर 6 साल के मासूम को पिता ने फेंका नहर में

वह नाम है पूर्व मुख्य न्यायाधीश नसीरुल मुल्क का| उन्होंने न्यायपालिका में रहते हुए ऐतिहासिक भूमिका निभाई है| आपको बता दें की पाकिस्तान में करवाहक प्रधानमंत्री का काम संसद भंग करने और नई सरकार के शपथ ग्रहण करने के बीच के समय देश चलाने का होता है| खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के स्वात, मिंगोरा में मुल्क का जन्म वर्ष 1950 में 17 अगस्त को हुआ था। उन्होंने वकील के तौर पर काम किया और वर्ष 2014 में पाकिस्तान के 22वें प्रधान न्यायाधीश नियुक्त होने से पहले काफी वर्षों तक वह न्यायाधीश रहे।