कासगंज: चंदन गुप्‍ता की हत्‍या का मुख्‍य आरोपी सलीम पुलिस की गिरफ्त...

कासगंज: चंदन गुप्‍ता की हत्‍या का मुख्‍य आरोपी सलीम पुलिस की गिरफ्त में

0
SHARE

उत्तर प्रदेश के कासगंज में हाल के समय में हुई सांप्रदायिक हिंसा में मारे गए युवक चंदन गुप्ता की हत्या करने वाला मुख्य आरोपी सलीम को गिरफ्तार करने की खबर है| बता दें की सलीम की गिरफ़्तारी कासगंज से ही हुई है| यूपी पुलिस सलीम को पिछले चार दिनों से ढूंढ रही है| सलीम की तलाशी के लिए एसटीएफ की टीम को भी लगाया गया था| कासगंज में 26 जनवरी गणतंत्र दिवस सांप्रदायिक हिंसा हुई थी| जिसमें 22 वर्षीय चंदन की मौत हुई थी|

कासगंज: चंदन गुप्‍ता की हत्‍या का मुख्‍य आरोपी सलीम पुलिस की गिरफ्त में
चन्दन की मौत में सलीम मुख आरोपी साबित हुआ| बताया जा रहा है की सलीम ने ही चन्दन को छत पर से गोली मारी थी| कासगंज के डीएम आरपी सिंह ने चंदन की हत्या की घटना में एक बड़ा खुलासा करते हुए बताया की चन्दन छत के ुपीर से चली गोली के कारण हुई है| उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिंसा भड़काने के आरोप में तकरीबन 118 लोगों को हिरासत, लेकिन चन्दन के आरोपी की गिरफ़्तारी नहीं हो पाई थी| सलीम की गिरफ़्तारी के लिए पुलिस ने उसके घर पर छापेमारी की थी| पुलिस को सलीम के घर पर ताला लगा हुआ मिला| पुलिस की टीम ने ताला तोड़ कर छानबीन भी की थी|

आपको बता दें की 26 जनवरी के दिन कुछ लोगों के समूह के द्वारा तिरंगा यात्रा निकाली गई थी| इसी यात्रा के दौरान दो समुदायों के लोगों के बीच झड़प हो गई| इस झड़प ने देखते ही देखते सांप्रदायिक हिंसा का रूप धारण कर लिया| इस हिंसा में चन्दन नाम के एक युवक की जान चले गई| वही दूसरी और अकरम नाम के युवक को अपनी आँख से हाथ धोना पढ़ा|

ये भी पढ़े- दिल्‍ली-NCR में भूकंप के झटके, जम्‍मू-श्रीनगर तक दिखा असर

शोपियां फायरिंग मामला: अफसर के खिलाफ FIR से गुस्से में सेना, कहा- एक हद तक भड़काने की कार्यवाही

पूरे कासगंज इलाके में तनाव का माहौल बना हुआ है| किसी भी तरह की हिंसा की घटना को रोकने के लिए प्रशासन ने पूरे इलाके में भारी तादात में पोलिसबलों को तैनात किया है| चन्दन की हत्या 26 जनवरी को हुई थी लेकिन पूरे इलाके में हिंसा अलगे दिन तक रुक रुक होती रही| 27 जनवरी को कुछ लोगों ने बसों, कारों और दुकानों में आग लगा दी| उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक ने इस घटना की कड़े शब्दों में निन्दा की करते हुए इस घटना को शर्मनाक और कलंक करार बताया था|