संसद के शीतकालीन सत्र की तारीखों का ऐलान 15 दिसंबर से 5...

संसद के शीतकालीन सत्र की तारीखों का ऐलान 15 दिसंबर से 5 जनवरी के बीच चलेगा|

0
SHARE

आखिर कर मोदी सरकार ने संसद के शीतकालीन सत्र की तारीखों का ऐलान कर दिया है| सीसीपीए के अनुसार संसद का शीतकालीन सत्र 15 दिसंबर से 5 जनवरी चलाया जाएगा| पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस पर मोदी सरकार पर शीतकालीन सत्र को लेकर आड़े हाथो लिया था| कांग्रेसी के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने मीडिया से बात करते हुए कहा की नरेंद्र मोदी ब्रह्मा है, वह रचयता है, वे जानते है की संसद का शीत सत्र कब शुरू करना है|

संसद के शीतकालीन सत्र की तारीखों का ऐलान 15 दिसंबर से 5 जनवरी के बीच चलेगा|

मोदी सरकार विपक्ष के सवालो से बचना चाह रही है, उसके पास बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, जीएसटी और अमित शाह के बेटे जय शाह के खिलाफ मुद्दों पर बोलने के लिए कुछ नहीं| मोदी सरकार को डर है की गुजरात चुनावो में विपक्ष उनका पर्दा फाश ना कर दे| कांग्रेस पार्टी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से भी संसद के शीतकालीन सत्र में देरी को लेकर बात करेंगे और उनसे नोटिस जारी करने का आग्रह करेंगे|

संसद के शीतकालीन सत्र को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने भी मोदी सरकार पर निशाना साधा| केंद्र सरकार गुजरात चुनावो के मद्देनजर संसद में विपक्ष के सवालो से बचना चाहती है| मोदी सरकार अपने अहंकार के कारण शिट सत्र में देरी कर रही है| अगर सरकार ये सोच रही है की वो लोकतंत्र के मंदिर पर ताला लगा कर| संवैधानिक जवाबदेही बच जाएगी तो वो गलत ही सोच रही है| सोनिया गाँधी ने आगे कहा की प्रधानमंत्री जीएसटी के लिए आधी रात को संसद सत्र बुला सकते हैं लेकिन आज खुद संसद का सामना करने से क्यों भाग रहे हैं?

ये भी पड़े- हाफिज सईद ने केक काटकर मनाया अपनी रिहाई का जश्न, कहा कश्मीरियों के लिए लड़ता रहूंगा

गुजरात ओपिनियन पोल 2017, कौन जीतेगा गुजरात इलेक्शन 2017?

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोनिया गाँधी की बयान को बेबुनियाद करार दिया है| अरुण जेटली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस द्वारा लगाए गए आरोपों को सिरे से नाकारा दिया| जेटली ने कांग्रेस को उनके समय की याद दिलाते हुई कहा की आप भी सत्र देरी से बुलाया था| वित्त मंत्री ने बताया की संसद का शीतकालीन सत्र नवंबर के तीसरे सप्ताह में बुलाया जाता है जो दिसंबर की तीसरे सप्ताह तक चलता है।