हिमाचल प्रदेश के सीएम को चुनने निर्मला सीतारमण और नरेंद्र सिंह तोमर...

हिमाचल प्रदेश के सीएम को चुनने निर्मला सीतारमण और नरेंद्र सिंह तोमर शिमला हुए रवाना|

0
SHARE

भारतीय जनता पार्टी हिमाचल प्रदेश में प्रचंड बहुमत हासिल करने के बाद, एक बड़ी परेशानियों का सामना कर रही है| हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री के चेहरे के लिए घमासान जारी है| इसी बिछ रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और नरेंद्र सिंह तोमर पहुँच चुके है| बीजेपी की कोर कमेटी की बैठक में मुख्यमंत्री के नाम चर्चा की जा रही है| इसी दौरान शुक्रवार को कमेटी की बैठक के बाहर बीजेपी के कार्यकर्त्ता और प्रेम कुमार धूमल के समर्थक एक दूसरे से भीड़ गए| प्रेम कुमार धूमल के सार्थक धूमल को हिमाचल प्रदेश का सीएम बनाने के पक्ष में है, वही हिमाचल बीजेपी के कार्यकर्ताओ की मांग है की जीते हुई उम्मीदवारों में से ही किसी को हिमाचल प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया जाए| कार्यकर्त्ता प्रधानमंत्री का नाम लेकर जीते हुए कंटेस्टेंट में से ही सीएम बनाने को हंगामा कर रहे थे|

हिमाचल प्रदेश के सीएम को चुनने निर्मला सीतारमण और नरेंद्र सिंह तोमर शिमला हुए रवाना|

आपको बता दें की बीजेपी ने हिमाचल प्रदेश में चुनाव से पहले ही अपने सीएम चेहरे के रूप में प्रेम प्रेम कुमार धूमल का नाम घोषित किया था, लेकिन हिमाचल प्रदेश के चुनाव के नतीजे आने के बाद पता चला की प्रेम कुमार धूमल तो चुनाव हर गए है, लेकिन उनके समर्थक धूमल को सीएम बनाने की मांग पर अड़े हुए है|

ये भी पढ़े- दुनिया भर में सबसे कम मजदूरी भारत में मिलती है और सबसे ज्यादा आस्ट्रेलिया में, देखे ये रिपोर्ट|

सचिन तेंडुलकर: रेणुका चौधरी ने बोला- भारत रत्न मिलने का मतलब, आपको बोलने का लाइसेंस मिलना नहीं है|

हिमाचल प्रदेश के सीएम पद के तौर पर बीजेपी के सांसद अनुराग ठाकुर का नाम भी लिया जा रहा है| धूमल के समर्थक इस बात से डरे बैठे है की धूमल को शायद अब सीएम नहीं बनाया जा सकता| हिमाचल प्रदेश के सीएम को लेकर हो रहे घमासान का समाधान निकलने के लिए ही सीतारमण और नरेंद्र तोमर को बतौर पर्यवेक्षक हिमाचल भेजा रवाना किया गया है| बीजेपी कोर समिति की बैठक के दौरान उस समय स्तिथि बिगड़ गई जब एक गुट धूमल के समर्थन में और दूसरा चुने गए विधायकों में से किसी को मुख्‍यमंत्री बनाने को लेकर जोर दार नारेबाजी करने लगे| बीजेपी के कार्यकर्त्ता पीएम मोदी का नाम लेकर नारे लगा लगाने लगे और कहने लगे की मुख्यमंत्री को बनाने में किसी तरह की चल बाजी नहीं चलेगी| जित कर आए विधायकों में से ही किसी एक को मुख्यमंत्री बनाया जाना चाहिए|