दिल्ली सरकार के कवि सम्मेलन में आप नेता और कवि कुमार विश्‍वास...

दिल्ली सरकार के कवि सम्मेलन में आप नेता और कवि कुमार विश्‍वास को न्योता नहीं

0
SHARE

आम आदमी पार्टी में हल में हुए आतंरिक कलह थमता हुआ नजर नहीं आ रहा है| राज्यसभा टिकट बंटवारे को लेकर आप नेता कुमार विश्वास ने नाराजगी जाहिर करते हुए अपनी ही पार्टी के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया हुआ है, ऐसे में पार्टी भी उन्हें कोई तवज्जो देने के मूड में नहीं दिख रही| बता दें की दिल्ली सरकार की तरह इस साल भी कवि सम्मेलन करवाने जा रही है, लेकिन हर बार की तरह इस बार इस सम्मेलन में आप नेता और पेशे से कवि कुमार विश्वास इस में नजर नहीं आएंगे, इसका कारण है दिल्ली सरकार के द्वारा कुमार विश्वास को न्योता ना भेजा जाना|

दिल्ली सरकार के कवि सम्मेलन में आप नेता और कवि कुमार विश्‍वास को न्योता नहीं

कुमार विश्‍वास उन्हें इस सम्मेलन में ना बुलाए जाने से नाराज़ है, वही पार्टी भी उनसे सीधे तौर पर कोई बातचीत करने को तैयार नहीं है| बता दें की यह प्रोग्राम हर साल कला संस्‍कृति विभाग के माध्यम से आयोजित किया जाता है| इस बार यह कार्यक्रम दिल्ली के लाल किला में 10 जनवरी बुधवार को आयोजित किया जा रहा है| इस सम्मेलन का उद्धघाटन खुद दिल्ली के मुख्यमंत्री करेंगे|

ये भी पढ़े- टाइगर जिंदा है बॉक्स ऑफिस कलेक्शन, वर्ल्ड वाइड कमाई रिपोर्ट

10 साल से लापता युवक का पाकिस्तान की जेल में बंद होने की मिली जानकारी

आपकी जानकारी के लिए बता दें की जब दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार भी है तब से दिल्ली होने वाले दिल्ली सरकार के तहत ज्यादातर कार्यक्रम में कुमार विश्वास को अतिथि के रूप में बुलाया जाता है| दैनिक जागरण से बात करते हुए कुमार विश्वास ने कहा की ”हिंदी के अलावा, उर्दू, संस्‍कृत और पंजाबी अकादमी के द्वारा आयोजित होने वाले कार्यक्रम में मुझे बुलाया गया है| लेकिन इस बार परिस्थितियां कुछ ऐसी है की सरकार की हिम्मत ही नहीं हो पा रही है की मुझे न्योता दें| दिल्ली सरकार मुझे श्रोता के रूप में भी देखने को तैयार नहीं है| सरकार में बैठे कुछ लोग मुझे नज़ारे मिलाने की हिम्मत नहीं कर पा रहे है| कुमार ने आगे कहा की कवि सम्मेलन में न्योता ना मिलना कोई मायने नहीं रखता है| मैं तो लोगो के दिलो में हूँ|

नवभारत टाइम्‍स से बातचीत में आप पार्टी के नेता सौरभ भारद्वाज कहा की कुमार कुछ समय से एक-डेढ़ घंटे के इंटरव्‍यू दे रहे हैं, लोगो उन्हें वही सुने रहे है| कवि सम्मेलन में कोई नहीं आ सकता है| जब पत्रकारों ने कुमार विश्वास की नाराजगी पर सवाल पूछे तो सौरभ ने कहा यह पार्टी का अंदुरुनी मामला है, इसे पार्टी अपने तरीके से सुलझा लेंगी| परिवार में झगड़े होना स्वभाविक है, परिवार के सदस्यों के बीच झगड़े हो जाते है|