कांग्रेस पार्टी के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए राहुल गाँधी|

कांग्रेस पार्टी के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए राहुल गाँधी|

0
SHARE

राहुल गाँधी कांग्रेस के वाईस प्रेजिडेंट से प्रेसडेंट बन गए| आज सोमवार है और कांग्रेस पार्टी की तरफ से आधिकारिक तौर पर राहुल गाँधी को कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष चुन लिया गया है इसका ऐलान कर दिया गया है| कांग्रेस के नेता मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने राहुल गाँधी को निर्विरोध अध्यक्ष चुने जाने मीडिया से साँझा किया| उन्होंने बताया की राहुल गाँधी के समर्थन में 89 लोग ने नामांकन प्रस्ताव दिया था| सभी के सभी सही पाए गए| रामचंद्रन ने बताया की कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए केवल एक व्यक्ति ने नामांकन दिया इस लिए उन्हें निर्विरोध कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए चुन लिया गया| राहुल गाँधी अपनी माँ सोनिया गाँधी जो की पिछले 19 सालो से कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष थी की जगह लेंगे|

कांग्रेस पार्टी के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए राहुल गाँधी|

राहुल गाँधी एक ऐसे समय में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद की कमान संभाल रहे जब कांग्रेस को ज्यादातर चुनावो में हर का समना करना पड़ रहा है| कांग्रेस पार्टी के हाथो में अब कुछ गिने चुने राज्यों में ही सत्ता बची है| राहुल गाँधी के सामने सबसे बड़ी चुनौती पार्टी कार्येकर्ताओ के मनोबल को उठाना होगा| बीजेपी के आक्रामक अभियान कांग्रेस मुक्त भारत से कांग्रेस को बचाना भी एक बड़ी चुनौती होगी| राजनीति के जानकारों की माने तो राहुल गाँधी के अध्यक्ष बनने से कांग्रेस के युवा नेताओ के अच्छे दिन आ सकते है| वही वरिष्ठ नेताओ और पुराने नेताओ को किनारे किया जा सकता है| आने वाले समय में ये संभावना लगाई जा रही है की कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व में बदलाव आ सकता है|

 

आपको बता दें की राहुल गाँधी के अध्यक्ष बनने पर पहले भी विवाद हो चूका है| कांग्रेस पार्टी के नेता शहजाद पूनावाला ने चुनाव प्रक्रिया में धांधली का आरोप लगाया था| ें आरोपों को बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी ने की कांग्रेस पर हमला बोला था| सोशल मीडिया पर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष चुनाव को लेकर ये कहा गया की ये पहले से ही फिक्स्ड है और इसे परिवारवाद से जोड़ा गया| कांग्रेस ने बीजेपी पार्टी के हमले का जवाब देते हुए ये पूछ की बीजेपी में कब अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हुए थे|

 

 

 

बता दें की भारतीय जनता पार्टी के गठन से लेकर आज तक अध्यक्ष पद के लिए कभी भी चुनाव नहीं हुए है| पार्टी का कहना है की अध्यक्ष पद के लिए आम सहमति होने के बाद ही उम्मीदवार का नाम आगे बढ़ाया|