20+ देश भक्ति शायरी | Desh Bhakti Shayari in Hindi

20+ देश भक्ति शायरी | Desh Bhakti Shayari in Hindi

0
SHARE

20+ देश भक्ति शायरी | Desh Bhakti Shayari in Hindi: दोस्तों आज हम इस पोस्ट में देश भक्ति शायरी की कलेक्शन पब्लिश कर रहे है\ अगर आप भी देश भक्ति शायरी इन हिंदी में सर्च कर रहे तो आप सही पोस्ट प् आए है| आपको इस आर्टिकल में Desh Bhakti Shayari की ढेर सारी कलेक्शन मिलेगी| आप जिसे अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ 15 अगस्त देश की आजादी वाले दिन और 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के मौके पर अपने फेसबुक, व्हाट्सप्प आदि सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिए अपने शेयर कर सकते है| तो चलिए दोस्तों बिना देर करें देशभक्ति शायरी को पढ़ना शुरू कर करते है|

20+ देश भक्ति शायरी | Desh Bhakti Shayari in Hindi

देश भक्ति शायरी

देश के लिए मर मिटने की तमन्ना आजादी से पहले भी थी और आज भी है| जब बात देश के लिए कुछ कर गुजरने की आती है तो देश का हर नागरिक इसके लिए तैयार रहता है| आज हम यहाँ पर कुछ बेहद ही अच्छी देश भक्ति शायरी इन हिंदी में शेयर कर रहे है जो उम्मीद करते है आपको पसंद आएँगी|

1. देश की मिट्टी खाई थी मैंने बचपन में कभी
इसलिए मेरे खून में देशभक्ति का जज्बा है!!

2. आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे

शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे

बची हो जो एक बूंद भी लहू की

तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे!!

20+ देश भक्ति शायरी | Desh Bhakti Shayari in Hindi

3.मूल जानना बड़ा कठिन हैं नदियों का, वीरो का,
धनुष छोड़कर और गोत्र क्या होता हैं रणधीरो का,
पाते हैं सम्मान तपोबल से भूतल पर शूर,
“जाति-जाति” का शोर मचाते केवल कायर, क्रूर!!

4.ये वक्त बहुत ही नाजुक हैं, हम पर हमले दर हमले हैं,
दुश्मन का दर्द यही तो हैं, हम हर हमले पर संभले हैं!!

5.बूँद बूँद को तरस रही है हमारी सरज़मीं कहने को तो,
हम उस देश के वाशी हैं जिस देश में गंगा बहती है!!

6.अलग है भाषा, धरम, जात और प्रान्त, भेष, परिवेश
पर सबका एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठ!!

7.मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है,
है दोनों इंसान,
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले कुरान,
अपने तो दिल में है दोस्त,
बस एक ही अरमान,
एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तान!!

20+ देश भक्ति शायरी | Desh Bhakti Shayari in Hindi8.एक सैनिक ने क्या खूब कहा है…
किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ!!

9.चलो फिर से खुद को जगाते हैं,
अनुशासन का डंडा फिर घुमाते हैं,
सुनहरा रंग हैं गणतंत्र का,
शहीदों के लहूँ से,
ऐसे शहीदों को हम सर झुकाते हैं!!

10.गूँजे कहीं पर शंख,
कही पे अजाँ हैं,
बाइबिल है, ग्रन्थ साहब है,
गीता का ज्ञान हैं,
दुनिया में खी और यह मंजर नसीब नही,
दिखाओ जमाने को यह हिन्दुस्तान हैं!!

11.बस ये बात हवाओं को बताये रखना,
रौशनी होगी चिरागों को जलाए रखना,
लहू देकर भी जिसकी हिफाजत की शहीदों ने,
उस तिरंगे को सदा दिल में बसायें रखना!!

12.मन को खुद ही मगन कर लो,
कभी-कभी शहीदों को भी नमन कर लो!!

13.दिवाली में बसे “अली”, रमजान में बसे “राम”,
ऐसा सुंदर होना चाहिए अपना हिन्दुस्तान!!

14.भारत का वीर जवान हूँ मैं,
ना हिन्दू, ना मुसलमान हूँ मैं,
जख्मो से भरा सीना हैं मगर,
दुश्मन के लिए चट्टान हूँ मैं,
भारत का वीर जवान हूँ मैं!!

15.जो देश के लिए शहीद हुए
उनको मेरा सलाम है
अपने खूं से जिस जमीं को सींचा
उन बहादुरों को सलाम है..

16.चाहता हूँ कोई नेक काम हो जाए,
मेरी हर साँस देश के नाम हो जाए,

17.ऐ पाक, तेरा ख़्वाब नजारा ही रहेगा,
तू क़िस्मत का मारा है मारा ही रहेगा,
तेरे हर सवाल का जबाब करारा ही रहेगा,
कश्मीर हमारा हैं और हमारा ही रहेगा!!

18.तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान हैं,
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान हैं,
यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान हैं,
और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं!!

19.तिरंगे ने मायूस होकर “सरकार” से पूछा कि ये क्या हो रहा हैं,
मेरा लहराने में कम और कफन में ज्यादा इस्तेमाल हो रहा हैं

20.सीने में जूनून और आँखों में देशभक्ति की चमक रखता हूँ !
दुश्मन की सांसे थम जायें, आवाज में इतनी धमक रखता हूँ !!

21.कर जज्बे को बुलंद जवान, तेरे पीछे खड़ी आवाम !
हर दुश्मन को मार गिराएंगे, जो हमसे देश बँटवाएंगे !!

22.कर जज्बे को बुलंद जवान, तेरे पीछे खड़ी आवाम !
हर दुश्मन को मार गिराएंगे, जो हमसे देश बँटवाएंगे !!

23.गुलाम बने इस देश को आजाद तुमने कराया है
सुरक्षित जीवन देकर तुमने कर्ज अपना चुकाया है
दिल से तुमको नमन हैं करते
ये आजाद वतन जो दिलाया है

24.इस वतन के रखवाले हैं हम
शेर ए जिगर वाले हैं हम
मौत से हम नहीं डरते
मौत को बाँहों में पाले हैं हम

25.कहते हैं अलविदा हम अब इस जहान को,
जा कर ख़ुदा के घर से अब आया न जाएगा,
हमने लगाई आग हैं जो इंकलाब की,
इस आग को किसी से बुझाया ना जाएगा.

26.आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं,
तीन रंगों से रंगा तिरंगा अपनी ये पहचान हैं.

27.अनेकता में एकता ही इस देश की शान हैं,
इसलिए मेरा भारत देश महान हैं.

28.भारत की फ़जाओं को सदा याद रहूँगा,
आज़ाद था, आज़ाद हूँ, आज़ाद रहूँगा.

29.जब देश में थी दिवाली, वो झेल रहे थे गोली
जब हम बैठे थे घरों में, वो खेल रहे थे होली
क्या लोग थे वो अभिमानी
है धन्य वो उनकी जवानी

आपको हमारी यह पोस्ट देश भक्ति शायरी कैसी लगी हमे कमेंट के जरिए बताए| हमारी इस पोस्ट को अपने परिवारवालों और दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले| हमारी अन्य पोस्ट को पढ़ने के लिए साइट के होम पेज पर विजिट करे| बेन हमारे साथ और पढ़ते रहे देश दुनिया की खबरें|