Railway Budget 2018: 1 फरवरी को होगा पेश, जाने क्या है आपके...

Railway Budget 2018: 1 फरवरी को होगा पेश, जाने क्या है आपके लिए खास?

0
SHARE

Railway Budget 2018 Live Update, Rail Bajat in Hindi: हर साल टी तरह इस साल भी रेल बजट पेश करने के समय आ चूका है| इस बार रेल बजट 1 फरवरी 2018 को संसद में पेश किया जाएगा| आपको बता दें केंद्र में नरेंद्र मोदी ने नेतृत्व में सरकार बनने के बाद से रेल बजट को अलग से पेश न कर के आम बजट के साथ ही पेश किया जाता है| पहली रेल बजट आम बजट के साथ 2017-18 के बजट सत्र में पेश हुआ था| देश में यह पहला मौका था जब रेल बजट आम बजट से अलग पेश ना होकर आम बजट का ही हिस्सा बन कर पेश हुआ था|

रेल बजट आम बजट का हिस्सा होने की वजह से रेल बजट 1 फरवरी को पेश होगा| रेल बजट को आम बजट के साथ केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली पेश करेंगे| देश का पहला रेल बजट सन 1924 में पेश हुआ था| आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के नाम सबसे अधिक बार रेल बजट करने का रिकॉर्ड है| बता दें की रेल मंत्री रहते हुए लालू यादव ने 6 बार रेल बजट को पेश किया| ममता बनर्जी रेल बजट को पेश करनी वाली देश की पहली महिला रेल मंत्री बनी| उन्होंने रेल मंत्री के पद पर रहते हुए रेल बजट पेश किया था| साल 2016 में सुरेश प्रभु ने रेल बजट आखरी बार पेश किया था|

Railway Budget 2018: 1 फरवरी को होगा पेश, जाने क्या है आपके लिए खास?

ममता बनर्जी एक मात्र महिला रेल मंत्री है जिन्होंने रेल बजट को पेश किया| उन्होंने साल 2002 में रेल बजट को पेश किया था| वही सुरेश प्रभु अंतिम रेल मंत्री है जिन्होंने आखरी बार रेल बजट की पेश किया| रेल बजट को पेश करने का सीधा प्रसारण 24 मार्च 1994 में शुरू हुआ था| देश में सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम (पीएसयू) है। यह तकरीबन 13.6 लाख लोगों को रोजगार देती है| भारत में पहली यात्री ट्रैन 16 अप्रैल 1853 में महाराष्ट्र के मुंबई और ठाणे के बीच चली थी| दिल्ली के चाणक्यपुरी में स्थित रेलवे सूचना प्रणाली (सीआरआईएस) ने पहली बार सन 1986 में आरक्षण प्रक्रिया की शुरुआत की थी| सन 1921 में ब्रिटिश राज के समय इकोनॉमिस्ट विलियम मिशैल ऑकवर्थ को भारतीय रेलवे कमेटी का चेयरमैन नियुक्त किया गया था|

ये भी पढ़े- BUDGET 2018 Live Streaming: संसद से आम बजट 2018 का लाइव प्रसारण यहाँ देखे-

Aam Budget 2018: जाने क्या होगा आपके लिए इसमें खास?

Economic Survey 2018 के अनुसार विकास दर 7 से 7.5 फीसदी रहने की उम्मीद

कांग्रेस पार्टी का चुनाव चिन्ह रद्द करवाने चुनाव आयोग पहुँचा यह वकील, जाने क्या है मामला?

बता दें की भारतीय रेलवे के पूरी सिग्नल प्रणाली के पूर्ण आधुनिकीकरण के लिए 78,000 करोड़ रुपए की राशि वाले इस कार्य को आने बजट में मंजूरी मिल सकती है| भारतीय रेलवे के इस बजट में सकल बजट सहयोग (जीबीएस) का 65,000 करोड़ रुपए की राशि मिली की सम्भावना है| इसकी मंजूरी के बाद पिछले साल के मुकाबले 10,000 करोड़ रुपए की बढ़ोतरी होगी| बता दें की रेलवे अवसंरचना विकास व सुरक्षा उपायों को मजबूत करने तथा इनका विस्तार करने के लिए आतंरिक संसाधनों तथा बाजार से धन इकठा की ओर कदम बढ़ा रहा है|