मेरठ: घरों में 11 हजार वोल्‍ट का करंट सप्लाई होने से एक...

मेरठ: घरों में 11 हजार वोल्‍ट का करंट सप्लाई होने से एक युवक की मौत|

0
SHARE

उत्‍तर प्रदेश के मेरठ जिले के एक गांव में फॉल्‍ट के कारण घरेलू लाइन की जगह 11000 वोल्‍ट का करंट सप्लाई होने से हड़कंप मच गया। कुआं पत्‍ती इलाके के इंचोली गांव में रविवार (12 मार्च) की दोपहर को 100 से अधिक घरों में इलेक्‍ट्रॉनिक चीजे खराब हो गए। यहां पर एक 20 साल के बीटेक में पढ़ने वाले छात्र की मौत की भी खबर है, जबकि चार अन्‍य लोग गंभीर रूप से झुलस गए। जैसे ही करंट प्रवाहित होना शुरू हुआ, एक-एक कर सामानों में धमाके होना शुरू हो गए। टाइम्‍स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, एक घर में भी आग लग गई है। गुस्‍साए लोगों ने राष्‍ट्रीय राजमार्ग 119 को जाम कर दिया जिसके बाद अधिकारी घटना स्थल पर पहुंचे। बिजली विभाग ने आनन फानन में मृत छात्र के परिवार वालों को 5 लाख रुपये का चेक दिया है। इस घटना की जांच के आदेश जारी कर दिए गए है।

मेरठ: घरों में 11 हजार वोल्‍ट का करंट सप्लाई होने से एक युवक की मौत|

पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) राजेश कुमार ने टीओआई से बातचीत करते हुए बताया की , ”फॉल्‍ट के चलते यहां के 110 घरों में 11,000 वोल्‍ट का करंट सप्लाई हुआ। जितने भी इलेक्‍ट्रॉनिक सामान उस वक्त चल रहे थे, सब फट कर जल गए। इस हादसे में एक व्‍यक्ति की मौत भी हुई है, चार घायल हुए हैं और एक घर में आग लगी है।”

मृत छात्र बीटेक सेकेंड ईयर का था,उसकी उम्र 20 वर्षीय थी, मृतक का नाम संदीप है जो उस समय अपना फोन चार्ज में लगा रहा था। करंट के कारण उसकी मौके पर ही छात्र ने दम तोड़ दिया। वहीं बिज्‍जो (50), साहिबा (32), अंजुम (35) नाम की तीन महिलाओं समेत मोहम्‍मद शाकिर (38) इस हादसे झुलस गए। बिज्‍जो का 70 प्रतिशत शरीर जल गया और उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है, बाकी तीनों 30 प्रतिशत से कम झुलसे हैं।

ये भी पढ़े- बांग्लादेश का विमान काठमांडू एयरपोर्ट पर लैंडिंग के दौरान हुआ क्रैश, 78 यात्री थे सवार|

तमिलनाडु: जंगल में आग लगने से 20 छात्र फंसे, रेस्क्यू के लिए एयर फाॅर्स रवाना|

पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के चीफ इंजीनियर एसबी यादव ने कहा, ”हम अभी घटना के कारणों का पता लगा रहे हैं। इसके लिए एक जांच भी शुरू करवाई गई है। सतेंद्र के परिवार को 5 लाख रुपये का चेक दे दिया गया है। गंभीर रूप से जली तीनों महिलाओं को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है और जो कम जले हैं, उन्‍हें प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी मिल गई है।”