महाराष्ट्र: सूचना के अधिकार के तहत उजागर हुआ ‘चूहा घोटाला’

महाराष्ट्र: सूचना के अधिकार के तहत उजागर हुआ ‘चूहा घोटाला’

0
SHARE

महाराष्ट्र: सूचना के अधिकार के तहत उजागर हुआ ‘चूहा घोटाला’: महाराष्ट्र में एक अजीबो गरीब घोटाला इस समय चर्चा का विष बना हुआ है| बता दें की महाराष्ट्र की फडणवीस सरकार चूहा घोटाले के कारण सवालों के घेरे में है| यह घोटाला कही नहीं बल्कि महाराष्ट्र सचिवालय में ही हुआ है| इस घोटाले को महाराष्ट्र के पूर्व राजस्व मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे ने उजागर किया है| एकनाथ खड़से ने एक आरटीआई की तरफ से महाराष्ट्र की सरकार पर चूहा घोटाले का आरोप लगाया है| अब विपक्ष को इस घोटाले के बाद सत्ता पक्ष पार्टी के खिलाफ मुद्दा मिल गया है|

महाराष्ट्र: सूचना के अधिकार के तहत उजागर हुआ 'चूहा घोटाला'

सूचना के अधिकार के तहत जानकारी देते हुए खडसे ने आरोप लगाया कि जिस कंपनी को मंत्रालय में चूहे मारने का ठेका दिया गया था उसे महज एक हफ्ते में 3 लाख 19 हजार चूहों को मार दिया| इसका मतलब कंपनी ने प्रतिमिनट 34 चूहे और हर दिन लगभग 45 हजार चूहों को मारा| लेकिन खड़से ने बताया की एक दिन में 900 क्विंटल यानी कि 9 टन चूहे मारे गए। अगर इतने चूहे मारे गए तो इन्हे ट्रक की मदद से कही दफनाया तो होगा|

विश्व टीबी दिवस निबंध, स्पीच, इतिहास, स्लोगन, थीम, जागरूकता अभियान, पोस्टर

खड़से ने जानकारी दी की बीएमसी 2 साल में 6 लाख चूहे मारती है| लेकिन कंपनी ने केवल सात दिनों के अंदर तीन लाख से आधी चूहे मार दिए| साल 2016 में एक निजी कंपनी को मंत्रालय में चूहे मारने का दिया गया| जिसे 6 महीने में मंत्रालय से चूहे हटाने का समय दिया गया, लेकिन उसने यह काम महज सात दिनों में ही पूरा कर दिया| यह चमत्कार कैसे हुआ इसकी जाँच होनी चाहिए|

Happy Durga Ashtami 2018: दुर्गा अष्टमी विशेस, SMS मैसेज, स्टेटस, इमेज, फोटो

सबसे बड़ी बात तो मंत्रालय में गृह विभाव सामान्य प्रशासन विभाग की इजाजत के बिना जहर कैसे ले जाया गया| जिस कंपनी को चूहे मारने का काम दिया गया| क्या उसे जहर को प्राप्त करने की अनुमति है? मंत्रालय की जिस मंजिल पर जहर रखा गया, उस मंजिल पर मौजूद विभाग के प्रमुख से इसकी मंजूरी ली गई|