कासगंज: धार्मिक स्थल का दरवाजा जलाया गया, फिर से दंगे भड़काने की...

कासगंज: धार्मिक स्थल का दरवाजा जलाया गया, फिर से दंगे भड़काने की कोशिश, जाँच शुरू

0
SHARE

कासगंज में हुई सांप्रदायिक हिंसा की आग अब धीरे-धीरे कम होने लगी ही थी की सोमवार 5 फरवरी को शांति के माहौल को फिर से बिगड़ने की कोशिश करने की खबर है| ताजा खबर के अनुसार सोमवार 5 फरवरी को कासगंज इलाके में एक धार्मिक स्थल के दरवाजे को जला दिया गया, दरवाजे के जलाए जाने से घटना स्थल पर लोगों की भीड़ इकठा हो गई| बता दें की यह घटना गंजडूंडवारा कस्बे में स्थित धार्मिक स्थल के दरवाजे को जलाने की है|

कासगंज: धार्मिक स्थल का दरवाजा जलाया गया, फिर से दंगे भड़काने की कोशिश, जाँच शुरू

घटना स्थल पर पहुंची पुलिस ने आग को बुझाया| इस घटना की खबर मिलते ही डीएम, एसपी और कई बड़े अधिकारी यहाँ पहुंचे और इलाके के हालात का मुआयना किया| इस घटना के बाद पूरे इलाके में सुरक्षा के मद्देनजर अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती की गई है| अभी इस बात का पता नहीं चल पाया है की दरवाजे में आग किसने लगाई| हालांकि पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ इस मामले में केस दर्ज़ कर लिया है और जाँच शुरू कर दी है|

ये भी पढ़े- हर साल प्लम्बर के काम से कमाता है 2 करोड़ रूपये यह शख्स, करता है 58 घंटे काम

दिल्ली: मुस्लिम लड़की से प्यार करना पड़ा हिन्दू लड़के को महँगा, गाला रेत कर हत्या

आपको बता दें की कासगंज में गणतंत्र दिवस के दिन तिरंगा यात्रा निकालने के दौरान हिंसक झड़प में चन्दन गुप्ता नाम के युवक की गोली लगने से मौत हो गई थी| जिसके कारण पूरे इलाके में आगजनी और हिंसा हुई और तीन से चार दिन तक हालात बेकाबू हो गए| पपोलिस ने इस घटना के हुई चन्दन गुप्ता की मौत के मुख्य आरोपी सलीम जावेद को छापेमारी के दौरान गिरफ्तार किया| पुलिस ने इस घटना में शामिल काफी लोगो को गिरफ्तार किया और उनसे पूछताछ जारी है|

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री राम नाईक ने इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा की| कासगंज में हुई इस हिंसा की राजनितिक तौर पर बयान बाजी की जा रही है| विपक्षी पार्टियों ने यूपी में हुई इस घटना को लेकर यूपी की योगी सरकार की आलोचना कर रही है| यूपी के एक मंत्री ने कासगंज में हुई हिंसा को छोटी-मोटी घटना को और तूल दे दिया है|