कमला मिल्स हादसा: घटना के समय लोग नशे में धुत थे, बाहर...

कमला मिल्स हादसा: घटना के समय लोग नशे में धुत थे, बाहर निकलने की जद में वाशरूम में जा घुसे और दम घुटने से हुई मौत

0
SHARE

मुंबई के लोअर परेल इलाके में गुरुवार की रात कमला मिल्स में आग लगने से काफी लोगो ने अपनी जान से हाथ धोना पड़ा, वही कुछ लोग इस हादसे में बाल बाल बच्चे| हादसे में बच्चे लोगो ने बताया अपनी आपबीती| बता दें की इस हादसे में मरने वाले लोग की संख्या 16 पहुँच गई और लगभग 2 दर्जन से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे है, जिनका इलाज जारी है| इस हादसे में बाल बाल बचे लोकेश पारेख ने बताया की रात के तक़रीबन 1 बजे उन्होंने इमारत की दूसरी मंजिल पर मौजूद रेस्टोरेंट में खाना खाने का फैसला किया, जिसके कारन वह इस हादसे का शिकार हुए| उन्होंने बताया की जब आग लगी तो उन्होंने वाशरूम में जाने का फैसला किया लेकिन बाद में उन्होंने फैसला बदल लिया और सीढ़ियों के जरिए रेस्टोरेंट से बाहर निकला ही सही समझा|

कमला मिल्स हादसा: घटना के समय लोग नशे में धुत थे, बाहर निकलने की जद में वाशरूम में जा घुसे और दम घुटने से हुई मौत

लोकेश पारेख दादर के रहने वाले है, उन्होंने बताया की उनके एक रिश्तेदार प्रतीक ठाकुर भी इस हादसे का शिकार हुए है, जिनका इलाज भाटिया अस्पताल में करवाया जा रहा है| ठाकुर ने इस घटना के बारे बताते हुए कहा की जब आग लगी तब आधी रात को आठ रेस्टोरेंट में एक परिवार के आठ लोग खाना खा रहे थे| उनके अनुसार यह आग हुक्के की वजह से लगी है| ठाकुर ने कहा की जब उन्हें इस बात की आशंका हुई की आग तिरपाल का शेड होने की वजह से बढ़ सकती है तो उन्होंने लोगो से बाहर भागने के लिए कहा| आगे बताते हुए ठाकुर ने कहा की पारेख और उनके साथियों ने वाशरूम में जाने की बजाए बाहर जाने का फैसला किया, जबकि अन्य लोगो ने वाशरूम में छुप कर आग बुझने का इंतजार किया, यही वजह है की पारेख और उसके साथी बच्च गए| जो लोग रेस्टोरेंट के वाशरूम में छुपे थे, उनकी दम घुटने से मौत हो गई|

ठाकुर ने बताया की रेस्टोरेंट में मौजूद लोगो में से ज्यादातर ने शराब पी हुई थी, जिसके कारण आग लगने पर उन्हें ये होश ही नहीं था की कहा जाए| ठाकुर के अनुसार उन्होंने 10-15 लोगो को इधर-उधर भागते हुए देखा| ठाकुर को जब यह पता चला की उनकी पत्नी अंदर फंस गई है तो वह उसे बचाने के लिए गए जिसमे उनके हाथ जल गए, लेकिन उनके साले (पत्नी के भाई) ने उन्हें बाहर की ओर खिंचा|

ये भी पढ़े- उत्तर प्रदेश की राजधानी हुई फिर शर्मसार, मदरसे में बंधक बना कर यौन शोषण|

टाइगर जिंदा है बॉक्स ऑफिस कलेक्शन, देखे आठवें दिन कितनी हुई कमाई?

हादसे का शिकार हुए तोरल ने बताया की बिल्डिंग में आग लगने के दौरान बचाव का कोई रास्ता मौजूद नहीं था| केवल एक छोटा सा एग्जिट दिया हुआ था, जहा पर आग लगने पर भगदड़ मच गई| खुली जगह पर तिरपाल का शेड था जिसने आग को तेजी से पकड़ लिया और फैलकर पब तक पहुँच गई|