दिल्ली बुराड़ी केस: घर में मिली डायरी में ‘बड़ पूजा’ का जिक्र,...

दिल्ली बुराड़ी केस: घर में मिली डायरी में ‘बड़ पूजा’ का जिक्र, पढ़िए! क्या यह हो सकती है मौत की वजह?

0
SHARE

दिल्ली बुराड़ी केस: घर में मिली डायरी में ‘बड़ पूजा’ का जिक्र, पढ़िए! क्या यह हो सकती है मौत की वजह?: दिल्ली के बुराड़ी में दिलदहला देने वाली इस सामूहिक खुदखुशी के मामले में आए दिन जाँच में नए खुलासे हो रहे है| बुराड़ी मामले में अब ‘बड़ पूजा’ को 11 लोगों की मौत की वजह माना जा रहा है| आइए जानते है क्या है बड़ पूजा? बड़ पूजा का अर्थ वट या बरगद के पेड़ से पूजा करना है| पुलिस घर में मिली डायरी के आधार पर इसे मोक्ष प्राप्ति के लिए हुई सामूहिक आत्महत्या के एंगल से भी देख रही है| ऐसा इसलिए क्योंकि जो बाते घर से मिले रजिस्टर में लिखी है उसी स्तिथि में घर के सभी लोग मृत पाए गए है|

दिल्ली बुराड़ी केस: घर में मिली डायरी में 'बड़ पूजा' का जिक्र, पढ़िए! क्या यह हो सकती है मौत की वजह?

घर से मिली डायरी से अब ‘बड़ पूजा’ की बात सामने आ रही है, जिसे घर के सदस्य ललित ने लिखा है| इस केस में हुए ताजा खुलासे से पता चला है की ललित ही घर का वह सदस्य था जिसने घर के अन्य सभी सदस्यों को सामूहिक खुदखुशी के लिए तैयार किया था| ललित ने घर के लोगों को भरोसा दिलाया था की वे मरेंगे नहीं बल्कि उन्हें कोई दिव्य शक्ति बचा लेगी|

दिल्ली बुराड़ी केस: 11 मौत, 11 पाइप के बाद अब घर के रोशनदान में लगे मिले 11 एंगल के ग्रिल से उलझा मामला

घर से जो डायरी मिली है उसमें लिखा है की ‘अंतिम समय में आखिरी इच्छा की पूर्ति के वक्त आसमान हिलेगा, धरती कांपेगी, उस वक्त तुम घबराना मत, मंत्रों का जाप बढ़ा देना, मैं आकर तुम्हें उतार लूंगा औरों को भी उतारने में मदद करुंगा।’

दिल्ली बुराड़ी मामला: जानिए! घर की दीवार पर क्यों लगे थे 11 पाइप

जो बात डायरी में लिखी है उन्हें ललित के दिवंगत पिता के हवाले से बताई जा रही हैं, जिनका निधन आज से 10 साल पहले हुआ था| ऐसा माना जा रहा है की ललित अपने दिवंगत पिता की आत्मा से बात करता था और उन्ही के आदेश पर काम किया करता था| इसी आधार पर उसने अपने परिवार के सदस्यों को भरोसा दिलाया था की कोई नहीं मरेगा| हम सब आखरी समय में बचा लिए जाएँगे|

दिल्ली बुराड़ी केस: घर से मिले रजिस्टर में लिखी मिली ये 10 बातें

इस केस में ‘बड़ पूजा’ को भी मृत्यु की वजह मान कर देखा जा रहा है| ये अनुमान लगाया जा रहा है की परिवार की जो विशेष साधना थी उसका सीधा सम्बन्ध वट वृक्ष से था| मान्यताओं के मुताबिक ये पूजा मोक्ष प्राप्ति के लिए की जाती है| इसमें बलि देने की भी प्रथा है पर यह सांकेतिक है|