महाराणा प्रताप जयंती विशेस, मैसेज, कोट्स, शायरी, कविता, इमेज

महाराणा प्रताप जयंती विशेस, मैसेज, कोट्स, शायरी, कविता, इमेज

0
SHARE

महाराणा प्रताप जयंती विशेस, मैसेज, कोट्स, शायरी, कविता, इमेज: आज देशभर में महाराणा प्रताप जयंती मनाई जा रही है| महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई 1540 को हुआ था| हिन्दू पंचांग विक्रम सम्वत के मुताबिक महाराणा प्रताप की जयंती हर साल ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाई जाती है| ऐसा कहा जाता है की महाराणा प्रताप एक योद्धा थे जिन्होंने मुगलों से कभी हर नहीं मानी| महाराणा प्रताप ने अपनी छोटी सी सेना के दम पर मुगलों को परेशान कर रहा था| महाराणा प्रताप का नाम भारत के इतिहास में उनकी बहादुरी की वजह से अमर हो गया है| वह अकेले ऐसे राजपुर राजा थे जिन्होंने मुगलों के राज को नहीं माना| वे उनसे निडर होकर लोहा लेते रहे|

महाराणा प्रताप जयंती विशेस, मैसेज, कोट्स, शायरी, कविता, इमेज

महाराणा प्रताप जयंती मेसेज

– अपने कतर्व्य,और पुरे सृष्टि के कल्याण के लिए प्रयत्नरत मनुष्य को युग युगांतर तक स्मरण रखा जाता है।

– अन्याय, अधर्म,आदि का विनाश करना पुरे मानव जाति का कतर्व्य है।

– एक शासक का पहला कर्त्यव अपने राज्य का गौरव और सम्मान बचाने का होता है।

– अपनो से बङो के आगे झुक कर समस्त संसार को झुकाया जा सकता है।

– गौरव,मान- मर्यादा और आत्मसम्मान से बढ कर कीमती जीवन भी नही समझना चाहिए।

– अगर सर्प से प्रेम रखोगे तो भी वो अपने स्वभाव के अनुसार डसेगाँ ही।

मजदूर दिवस निबंध, कविता, पोस्टर, स्लोगन, भाषण

महाराणा प्रताप जयंती विशेस, मैसेज, कोट्स, शायरी, कविता, इमेज

महाराणा प्रताप जयंती कोट्स

– नित्य, अपने लक्ष्य,परिश्रम,और आत्मशक्ति को याद करने पर सफलता का मार्ग सरल हो जाता है।

– अत्यंत विकट परिस्तिथत मे भी झुक कर हार नही मानते। वो हार कर भी जीते होते है।

– सत्य,परिश्रम,और संतोष सुखमय जीवन के साधन है। परन्तु अन्याय के प्रतिकार के लिए हिंसा भी आवश्यक है।

– अपने अच्छे समय मे अपने कर्म से इतने विश्वास पात्र बना लो कि बुरा वक्त आने पर वो उसे भी अच्छा बना दे।

महाराणा प्रताप जयंती विशेस, मैसेज, कोट्स, शायरी, कविता, इमेज

हैप्पी महाराणा प्रताप जयंती शायरी

– कष्ट,विपत्ती और संकट ये जीवन को मजबूत और अनुभवी बनाते है। इनसे डरना नही बल्कि प्रसन्नता पूर्वक इनसे जुझना चाहिए।

– जो सुख मे अतिप्रसन्न और विपत्ति मे डर के झुक जाते है, उन्हे ना सफलता मिलती है और न ही इतिहास मे जगह।

– अगर इरादा नेक और मजबूत है। तो मनुष्य कि पराजय नही विजय होती है।

– हल्दीघाटी के युध्द ने मेरा सर्वस्व छीन लिया हो। पर मेरी गौरव और शान और बढा दिया।

– अपने और अपने परिवार के अलावा जो अपने राष्ट्र के बारे मे सोचे वही सच्चा नागरिक होता है।

मजदूर दिवस मैसेज, कोट्स, शायरी, SMS, व्हाट्सप्प स्टेटस, इमेज

महाराणा प्रताप जयंती इमेज

महाराणा प्रताप जयंती विशेस, मैसेज, कोट्स, शायरी, कविता, इमेज महाराणा प्रताप जयंती विशेस, मैसेज, कोट्स, शायरी, कविता, इमेज महाराणा प्रताप जयंती विशेस, मैसेज, कोट्स, शायरी, कविता, इमेज

महाराणा प्रताप कविता

चेतक पर चढ़ जिसने , भाला से दुश्मन संघारे थे…
मातृ भूमि के खातिर , जंगल में कई साल गुजारे थे…
झुके नही वह मुगलोँ से,अनुबंधों को ठुकरा डाला…
मातृ भूमि की भक्ति का, नया प्रतिमान बना डाला…
हल्दीघाटी के युद्ध में, दुश्मन में कोहराम मचाया था…
देख वीरता राजपूताने की , दुश्मन भी थर्राया था…
बलिदान पर राणा के, भारत माँ ने, लाल देश का खोया था…
वीर पुरुष के देहावसान पर, अकबर भी फफक कर रोया था…
भारत माँ का वीर सपूत, हर हिदुस्तानी को प्यारा हे…
कुँअर प्रताप जी के चरणों में, सत सत नमन हमारा हे…

बता दें की महाराणा प्रताप के पिता कानाम उदय सिंह था तो वही उनकी माँ का नाम महारानी जयवंता बाई थी| वे अपने परिवार में सबसे बड़े थे| उनके बचपन का नाम कीका था| महाराणा बचपन से ही बहादुर और निडर थे| बचपन से ही उनकी रूचि खेलकूद और हथियार बनाने की कला को सीखने की रही| उन्हें धन-दौलत से ज्यादा मान-सम्मना की अधिक परवाह थी| महराणा के बारे में मुग़ल दरबार के कवि अब्दुर रहमान ने लिखा है, ‘इस दुनिया में सभी चीज खत्म होने वाली है। धन-दौलत खत्म हो जाएंगे लेकिन महान इंसान के गुण हमेशा जिंदा रहेंगे। महाराणा ने सिर झुकाने की बजाय धार-दौलत को छोड़ना बेहतर समझा| हिन्दुओं के सभी राजकुमारों में अकेले महाराणा ने अपना मान सम्मान बनाए रखा|