Maha Shivratri 2018: इस दिन होता है भगवान शिव का रुद्राभिषेक, जानें...

Maha Shivratri 2018: इस दिन होता है भगवान शिव का रुद्राभिषेक, जानें कब है महाशिवरात्रि?

0
SHARE

Maha Shivratri 2018 Date, Vrat Katha, Vidhi in Hindi: महाशिवरात्रि पर पर्व हिन्दुओं के मुख्य त्योहारों में से एक है| हिन्दू कैलेंडर के अनुसार शिवरात्रि का पर्व फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाता है| इस दिन रुद्राभिषेक का काफी महत्व होता है| इस दिन भगवन शिव की पूजा करने से सभी रोग और शारीरिक परशानियों से निजात मिलती है| इंग्लिश कैलेंडर के मुताबिक यह त्यौहार जनवरी या फिर फरवरी महीने में सेलिब्रेट किया जाता है|

Maha Shivratri 2018: इस दिन होता है भगवान शिव का रुद्राभिषेक, जानें कब है महाशिवरात्रि?
इस वर्ष महाशिवरात्रि का त्यौहार 14 फरवरी 2018 को बड़ी धूम शाम से मनाया जाएगा| हिन्दू धर्म के लोगो की मान्यता है की इस दिन सृष्टि की रचना हुई थी पौराणिक कथाओं के मुताबिक इस दिन भगवान शिव का विवाह माता पार्वती के साथ हुआ था।

आपको बता दें पूरे साल में 12 शिवरात्रि आती है| हर महीने की चौदहवीं तिथि को मासिक शिवरात्रि का उत्सव मनाया जाता है| लेकिन फाल्गुन माह की शिवरात्रि का महत्व अन्य शिवरात्रि से कुछ ज्यादा होता है| भगवन शिव की उपासना के लिए महाशिवरात्रि के दिन व्रत भी रखा जाता है| इस दिन कुंवारी कन्याएं इस दिन भगवान शिव की इच्छा के लिए व्रत रखती है| ऐसी मान्यता है की इससे उन्हें उन्हें सुवर की प्राप्ति होगी| विवाहित स्त्रियाँ भी इस दिन व्रत रखती है, वह अपने पति के अच्छे जीवन और अच्छे स्वास्थ्य की कामना करती है| इस दिन भगवन शिव की पूजा जल और बेल पतों से माध्यम से की जाती है|

महाशिवरात्रि के पर्व पर भगवन शिव का अभिषेक लोग अलग-अलग तरह से करते है, कुछ जल से तो कुछ दुग्ध से अभिषेक करते है| इस दिन मंदिरों में शिव भक्तों की भारी भीड़ जमा होती है| लोग सुबह सूर्योदय के बाद पवित्र स्थानों पर स्नान करते हुए भी देखे गए है| पवित्र स्नान के बाद लोग मंदिरों में जाकर लोग शिव के साथ विष्णु की उपासना करते है|

ये भी पढ़े- शिव नवरात्रि 2018: नौं दिनों तक होगी महाकाल की पूजा, शिवजी का दूल्हे के रूप में होगा शृंगार

जाने मौत से जुड़े कुछ राज और अजीब तथ्य

विजया एकदाशी 2018: विजय प्राप्ति के लिए रखा जाता है भगवान विष्णु का व्रत, जाने महत्व

शिवरात्रि के दिन जागरण का आयोजन भी किया जाता है| शिवरात्रि के इस पर्व पर भगवन शिव की बारात भी निकलती है| जो माता के मंदिर में विवाह के लिए प्रस्थान करती है| कई पवित्र जगहों पर शिव-पार्वती के विवाह का आयोजन भी किया जाता है|