गुप्त नवरात्रि 2018: आज से शुरु हुए मां दुर्गा की आराधना के...

गुप्त नवरात्रि 2018: आज से शुरु हुए मां दुर्गा की आराधना के पवित्र नौ दिन, जानें इनका महत्त्व?

0
SHARE

Gupt Navratri 2018 Puja Vidhi, Vrat Vidhi and Katha, Sadhana in Hindi: माँ दुर्गा की आराधना के नौ पवित्र दिनों की शुरुआत आज 18 जनवरी से शुरू हो गई| देवी भागवत के पुराण के हिसाब से एक साल में 4 बार नवरात्र आते है, जिनमे से 2 गुप्त नवरात्री कहलाते है| गुप्त नवरात्री में अन्य नवरात्री से पूजा कुछ अलग तरीके से की जाती है| यही वजह है की इन्हे गुप्त नवरात्री के नाम से जाना जाता है| गुप्त नवरात्री में पुरे 9 दिन दुर्गा माता की आराधना की जाती है| नवरात्री के पहले दिन घटस्थापना करने की परंपरा है और हर दिन सुबह और श्याम को माँ दुर्गा की पूजा की जाती है| आपको बता दें की गुप्त नवरात्री तांत्रिक विद्या को प्राप्त करने वाले लोगो काफी महत्वपूर्ण होती है|

गुप्त नवरात्रि 2018: आज से शुरु हुए मां दुर्गा की आराधना के पवित्र नौ दिन, जानें इनका महत्त्व?
गुप्त नवरात्री में साधक महाविद्याओं को परैत करने के लिए दुर्गा माता के नौ रूप देवी काली, तारादेवी, त्रिपुर सुंदरी, भुवनेश्वरी माता, छिन्न माता, त्रिपुर भैरवी मां, धुमावती माता, बगलामुखी, मातंगी और कमला देवी की आराधना करते है| देवी भागवत पुराण में माँ दुर्गा के बारे में बताया गया है| इसमें बताया गया है की गुप्त नवरात्री में तांत्रिक क्रियाएं, शक्ति साधनाएं, महाकाल आदि जिन्हे शक्तियों की विद्या प्राप्त करने चाहत है उनके लिए एक विशेष महत्त्व है| माँ दुर्गा के उपासक कड़े नियमों का पालन करते है जैसे नौ दिनों तक माँ दुर्गा की उपासना करना और व्रत रखना विशेषकर शामिल है| नवरात्री के आठवें और नौवें दिन कन्या पूजन किया जाता है और नवरात्री व्रत को खोला जाता है|

ये भी पढ़े- नवरात्र के 9 दिन पहने ये अलग-अलग रंग के वस्त्र! माँ दुर्गा होंगी खुश

राष्ट्रीय युवा दिवस 2018 Quotes

यह माघ महीने के गुप्त नवरात्री है जो 18 जनवरी से लेकर 26 जनवरी 2018 तक देशभर में धूम-धाम से मनाया जाता है| बता दें की माघ माह और आषाढ़ माह के नवरात्रि को गुप्त नवरात्रि तथा चैत्र और अश्विन माह के नवरात्रि को उदय नवरात्रि के नाम से मनाया जाता है| गुप्त नवरात्री को उत्तर भारत के क्षेत्र में विशेष रूप से मनायी जाती है| मां दुर्गा के गुप्त स्वरुप काली, तारा, बगला, षोडशी आदि है, जिनकी नौ दिनों तक पूरे विधि-विधान से आराधना की जाती है| नवरात्री के दिन लोग शुबहा उठकर स्नान करते है और दुर्गा माता के मंदिर में जा कर ज्योति जलाते है और घटस्थापना करते है| घट स्थापना करते समय दुर्गा माता के साथ भगवन गणेश जी की भी पूजा की जाती है|