जान बचाकर भागे लांच पैड्स से आतंकी, भारतीय सेना का है खौफ

जान बचाकर भागे लांच पैड्स से आतंकी, भारतीय सेना का है खौफ

0
SHARE

जान बचाकर भागे लांच पैड्स से आतंकी, भारतीय सेना का है खौफभारतीय सेना के द्वारा की गयी सर्जिकल स्ट्राइक का असर देखने को मिल रहा है। पकिस्तान के कब्ज़े वाले कश्मीर में कई आतंकी बेहद खौफ में हैं। ख़ुफ़िया रिपोर्ट के मुताबिक़ सर्जिकल स्ट्राइक से पहले कैंप में कुल 500 आतंकी थे, लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक के बाद अब सिर्फ 200 आतंकी बचे हैं और बाकि 300 आतंकी भाग गए हैं। सर्जिकल स्ट्राइकल के दौरान आतंकी लॉन्चिंग पैड्स के तबाह किए जाने के बाद से आंतकी भारतीय सेना के खौफ में हैं।

pti10_29_2014_000085b

खुफिया सूत्रों के हवाले खबर है कि आतंकी कैंप छोड़कर फरार हो रहे हैं। सबसे बड़ी बात ये है कि मुंबई हमले के लिए आतंकियों को जिस कैंप में ट्रेनिंग दी गई थी उस कैंप से भी आतंकी भाग गए है। ये ट्रेनिंग कैंप मुजफ्फराबाद के नजदीक मानशेरा में है, यहीं पर मुंबई हमले के गुनहगार कसाब को भी ट्रेनिंग दी गई थी।

पाक सैनिक ठिकानों में बदले आतंकी कैंप्स

पाकिस्तानी एजेंसी ISI ने पहले ही 18 आतंकी ट्रेनिंग कैंप्स को अपने सैनिक ठिकानों में बदल दिया था। लेकिन बाकी बचे 24 ट्रेनिंग कैंप्स को आतंकियों ने खाली कर दिया है। ख़ुफ़िया एजेंसियों की जानकारी के मुताबिक आतंकियों में यह खौफ है कि अगला सर्जिकल स्ट्राइक कहीं उनके कैंप्स पर ना हो जाए और वे मारे जाएं। इसलिए ट्रेनिंग कैंप्स को खाली करके भाग रहे हैं।

खौफ के मारे घर लौटे आंतकी

खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक पीओके में ट्रेनिंग कैंप को खाली करके आतंकी या तो अपने घरों में लौट गए हैं या फिर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI ने उन्हें पीओके में ही सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचा दिया है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक जैश, लश्कर और हिजबुल के 200 से ज्यादा आतंकी ट्रेनिंग के बाद घुसपैठ के लिए तैयार बैठे थे। दरअसल जिस तरीके से सर्जिकल हमले में सात लॉन्चिंग पैड तबाह हुए हैं, आतंकियों में और उन्हें पनाह देने वाले पाकिस्तानी सुरक्षा बलों में खौफ का माहौल है।

ऐसे में जिन आतंकियों को सैन्य ठिकानों में शिफ्ट किया गया है, उन्हें भी पाकिस्तान की सेना बंदूक की नोक पर रोक रही है। दरअसल वह भी वापस अपने घरों में लौटना चाहते हैं, क्योंकि आतंकियों का कहना है कि वह इस तरह की लड़ाई में मारे जाएंगे जबकि मुकाबला करने की जिम्मेदारी पाकिस्तान की सेना की है।