(चिड़िया) गौरैया से जुड़े रोचक तथ्य

(चिड़िया) गौरैया से जुड़े रोचक तथ्य

0
SHARE

(चिड़िया) गौरैया से जुड़े रोचक तथ्य: आपने अपने आस-पास चिड़िया तो देखी ही होंगी| जो इस समय पहले के मुकाबले काफी कम ही नजर आती है| चिड़िया का ची ची करना सुबह के वक्त अच्छा लगता है लेकिन अब मानव जाति के विकास के कारण यह पक्षी विलुप्त होने की कगार पर है| हर साल 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस मनाया जाता है| इस दिन दुनियाभर में गौरैया के संरक्षण से जुड़े पहलुओं पर विचार विमर्श किया जाता है| इस दिन गौरैया के संरक्षण के लिए विशेष अभियान भी चलाया जाता है| आज हम चिड़िया जिसे गौरैया और अंग्रेजी में स्पैरो कहते है| आज आप इस पोस्ट में इसने के बारे में पढ़ेंगे|

(चिड़िया) गौरेया से जुड़े रोचक तथ्य

– गौरैया पहाड़ी इलाकों में काफी कम ही देखने को मिलती है|

– चिड़िया की लंबाई लगभग 14 से 16 सेंटीमीटर तक होती है।

– घरों में चीं – चीं करती नन्ही चिड़िया (Sparrow) अब लुप्त होने को है|

– गौरया जिसे चिड़िया के नाम से भी जानते है एक बहुत ही सुन्दर सा पक्षी है|

– पुराने समय में गौरैया का घरों की मोरी, गाटर में घोंसला हुआ करता था|

– एक बार में चिड़िया तीन बच्चों को जन्म देती है|

– गौरैया ज्यादातर झुंड में पाई जाती है|

World Sparrow Day विश्व गौरैया दिवस निबंध, कविता

– गौरया का रंग सफ़ेद और हल्के भूरे होता है| इसकी चोंच पीली और छोटे –छोटे पंख इसे सुंदर रूप प्रदान करते हैं।

– चिड़िया का बसेरा इंसान के घरों के पास ही पाया जाता है|

– भोजन की खोज में चिड़िया मीलो की दुरी तय कर लेती है|

– इस समय का सबसे संकट ग्रस्त पक्षी चिड़िया ही है, जो काफी तेज गति से विलुप्त हो रहा है|

– इसका कारण पेड़-पौधों की तेजी से कटाई और शहरीकरण का विकास है|

– हल साल 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस मनाया जाता है| सबसे पहला स्पैरो डे 2010 में मनाया गया था|

ऑक्टोपस से जुड़े कुछ रोचक तथ्य|

– गौरैया को हर जगह अलग-अलग नामों से पुकारा जाता है जैसे चिड़ी , चिमनी ,चकली ,चेर आदिl

– चिड़िया कई तरह के अनाज ,फूल बीज आदि खाती है।