टेलिकॉम विभाग जल्द ही जियो, टाटा और टेलिनॉर को नोटिस भेज कर...

टेलिकॉम विभाग जल्द ही जियो, टाटा और टेलिनॉर को नोटिस भेज कर 2,578 करोड़ रुपये वसूलने की तैयारी में है

0
SHARE

दूरसंचार विभाग जल्दी ही पांच दूरसंचार कंपनियों जारी करने जा रहा है, जिनमे टाटा टेलीर्सिवसेज, टेलीनॉर और रिलायंस जैसी कम्पनियाँ शामिल है| दूरसंचार विभाग को इन सभी दूरसंचार कंपनियों से 2,578 करोड़ रुपये वसूलने की तैयारी में है| बता दें की नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट के अनुसार इन कंपनियों ने अपनी आय को कम करके दिखाने का आरोप लगा है| आधिकारिक सूत्रों के अनुसार कैग ने इस महीने में अपनी रिपोर्ट में इन सभी पाँचो कंपनियों को अपनी आय कम करके दिखाने का मामला सामने आया है| यही वजह है की दूरसंचार विभाग

टेलिकॉम विभाग जल्द ही जियो, टाटा और टेलिनॉर को नोटिस भेज कर 2,578 करोड़ रुपये करने वाला है|

अब इन कंपनियों से 2,578 करोड़ रुपये की वसूली के लिए नोटिस जारी करने वाला है| कैग ने ईएसआई महीने 19 दिसंबर को संसद में पेश की रिपोर्ट में बताया की टाटा टेलीर्सिवसेज, टेलीनॉर, वीडियोकॉन टेलीकाम, क्याडरेंट: वीडियोकॉन समूह की कंपनी और रिलायंस जियो ने अपनी इनकम को 14,800 करोड़ रुपये कम करके बताया है जिसके कारन इनकम टैक्स ऑफिस को 2,578 करोड़ रुपए नुकसान की खबर है|

कैग की रिपोर्ट में बताया गया है कि सरकार को इन कंपनियों ने लाइसेंस शुल्क में 1,015.17 करोड़ रुपये की कम राशि दी है| इस प्रकार स्पेक्ट्रम इस्तेमाल शुल्क के रूप में 511.53 करोड़ रुपये कम अदा किए गए| यही नहीं 1,052 करोड़ रुपये के भुगतान में देरी का ब्याज भी अदा नहीं हुआ| आपको बता दें की किस कंपनी से कितना शुल्क वसूला जाएगा टाटा टेलीर्सिवसेज से 1,893.6 करोड़ रुपए, टेलीनॉर से 603.75 करोड़ रुपये, वीडियोकॉन से 48.08 करोड़ रुपये, क्वाडरेंट से 26.62 करोड़ रुपये तथा जियो से 6.78 करोड़ रुपये, खबरों के अनुसार इन सभी कंपनियों को जनवरी में नोटिस भेजने की तैयारी की जारी रही है|

ये भी पढ़े- हैप्पी न्यू ईयर 2018 कोट्स, सेइंग्स, ग्रीटिंग कार्ड

हैप्पी न्यू ईयर 2018 की शुभकामनाएं | हैप्पी न्यू ईयर 2018 मैसेज, शायरी

कुलभूषण जाधव की अपनी माँ-पत्नी से हुई मुलाकात के अगले ही दिन मिले भारत-पाक के NSA

आपको बता दें की केंद्र की मोदी सरकार भ्रष्टाचार को किसी भी हाल में बढ़ावा देने के मूढ़ में नही है और यही वजह है की भारत सरकार भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म करने के लिए कड़े कदम उठा रही है| यही वजह है की हाल में सरकार ने भ्रष्टाचार को लेकर कड़े फैसले भी लिए है, जिसमे नोट्बंदी भी शामिल है|