GST की दरों में फिर बदलाव 177 वस्तुए हुई सस्ती, जाने 10...

GST की दरों में फिर बदलाव 177 वस्तुए हुई सस्ती, जाने 10 खास बाते

0
SHARE

GST यानी गुड्स एंड सर्विसेज़ टैक्स, आज GST कॉउन्सिल की बैठक में कुछ एहम फैसले लिए गए| बतादे की आज GST कॉउन्सिल ने रोजमर्रा की 177 वस्तुओ को 28% के स्लैब से हटा कर 18% के दायरे में लाने का फैसला किआ है| अब सिर्फ 50 वस्तुओ पर ही 28% टैक्स लगेगा| बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी की अधयक्ष्ता में गुवाहाटी में हुई GST कॉउन्सिल की मीटिंग में आज ये फैसले लिए गए| जाने GST कॉउन्सिल की दस महत्वपूर्ण बाते|

GST की दरों में फिर बदलाव 177 वस्तुए हुई सस्ती, जाने 10 खास बाते

 

GST कॉउन्सिल की 10 बाते| क्या कहा सुशील मोदी ने?

GST नेटवर्क के पैनल के प्रमुख सुशील मोदी बताया की रोजमर्रा के इस्तेमाल की चीजे जैसे शैम्पू, डियोडरेंट, टूथपेस्ट, शेविंग क्रीम, आफ्टरशेव लोशन, जूतों की पॉलिश, चॉकलेट, च्यूइंग गम तथा पोषक पेय पदार्थ सभी वस्तुए सस्ती होंगी|

GST काउंसिल की 23वीं बैठक का आज दूसरा दिन है और उन सभी बातो पर विचार विमर्श किआ जा रहा है, जो असम के वित्तमंत्री हिमांता विश्व शर्मा के नेतृत्व वाले एक पैनल ने पेश की है| जिसमे से एक एयरकंडीशन्ड रेस्तरांओं में परोसे जाने वाले भोजन पर लगने वाले 18 फीसदी टैक्स को घटाकर 12 फीसदी पर फैसला संभव है|

काउंसिल हर माह तीन इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के सुझाव पर भी विचार विमर्श कर रही है| इससे रिटर्न फाइल किए जाने की प्रक्रिया को टैक्सपेयर-फ्रेंडली बनाया जा सके|

वित्तमंत्री अरुण जेटली ने पहले ही GST स्लेब में सुधार के संकेत दिए थे| वित्तमंत्री ने कहा था की कुछ चीजों को 28% टैक्स स्लेब में होना ही नहीं चाहिए था| हम GST टैक्स में सुधार के समर्थन में है|

GST काउंसिल की बैठक हर माह होती रही है| जब से ये नई टैक्स व्यवस्था लागू हुई थी| 1 जुलाई से अबतक 100 से ज्यादा बार टैक्स की दरों में बदलाव किया जा चुका है| बता दे की GST के तहत चार स्लेब बनाए गए है| 5, 12, 18 तथा 28 फीसदी और इसी स्लेब के हिसाब से ही अब सभी वस्तुओ पर टैक्स लगता है|

GST काउंसिल की आज हो रही बैठक GST की कड़ी आलोचना के बीच हो रही है| भारत की आजादी के बाद अबतक हुए टैक्स के बदलावों में GST का लागू होना एक बड़ा बदलाव है| विपक्ष ने GST के लागू करने के समय और तरीके की वजहों पर सवाल खड़े किए है| विपक्षी पार्टियों ने कहा की इस बदलाव से छोटे व्यापारियों तथा व्यवसायों की कमर टूट गई है.

जिस होटल में GST काउंसिल की बैठक हो रही थी| उसके बाहर कांग्रेस के कई बड़े नेताओ ने विरोध प्रदर्शन किआ जिसमे पुदुच्चेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी, पंजाब के वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल तथा कर्नाटक के कृषिमंत्री कृष्णबायरे गौड़ा शामिल रहे| इन नेताओ ने आरोप लगाया की टैक्स वयवस्था में हुए इस बदलाव से केवल पांच राज्यों को फायदा हुआ है| बाकि के सभी राज्यों को GST लागू होने से नुकसान ही हुआ है|

कांग्रेस ने केंद्र की बीजेपी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा की जब से GST लागू हुआ है तब से इसका विरोध किआ जा रहा है| लेकिन अब जब गुजरात विधानसभा चुनाव होने को है और गुजरात के छोटे कारोबारी नई टैक्स वयवस्था से परेशान है तब इसकी समीक्षा की जा रही है| कांग्रेस पार्टी ने GST में सुधार के समय पर सवाल किए है|

बता दे की कांग्रेस पार्टी के वाईस प्रेजिडेंट राहुल गाँधी ने गुजरात विधानसभा चुनावो कि रैली में GST को गबर करार दिआ है| राहुल गाँधी ने गुजरात चुनावो में GST को एक बड़ा मुदा बना कर गुजरात बीजेपी को सत्ता से बाहर करने का आग्रह किआ|

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने GST और नोटेबंदी को एक बड़े सुधार के रूप में पेश किआ| मोदी ने लोगो को सम्भोधित करते हुए भ्रष्टाचार को खत्म करने में इनको महत्वपूर्ण कदम बताया है|