Economic Survey 2018 के अनुसार विकास दर 7 से 7.5 फीसदी रहने...

Economic Survey 2018 के अनुसार विकास दर 7 से 7.5 फीसदी रहने की उम्मीद

0
SHARE

Economic Survey 2018 India in Hindi: राष्ट्रपति के अभिभाषण के साथ ही आज से संसद में बजट सत्र की शुरुआत हुई| बजट सत्र के पहले दिन संसद में आर्थिक सर्वे को पेश किया गया| आर्थिक सर्वे के अनुसार विकास दर 7 से 7.50 प्रतिशत रहने की उम्मीद जताई गई है| मौजूदा वित्त वर्ष में देश की जीडीपी 6.75 प्रतिशत रहने की सम्भावना है| कच्चे तेल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर भी चिंता जाहिर की गई है| सरकार उत्पादन बढ़ाने पर जोर देगी| संसद में आर्थिक सर्वे के पेश होने बाद शेयर मार्किट में अच्छी उछाल देखी गई है| बता दें की शेयर मार्किट में 300 अंक की उछाल के साथ 36,350 पॉइंट पर कारोबार पहुँच गया है|

Economic Survey 2018 के अनुसार विकास दर 7 से 7.5 फीसदी रहने की उम्मीद

आर्थिक सर्वे में पब्लिक इन्वेस्टमेंट को तवज्जो देने के लिए कहा गया है| इस बार सरकार का जोर विकास के लिए पैसे इकठा करने की बजाए, विकास पर खर्च करने पर रहेगा| आर्थिक सर्वे में पर्यावरण प्रदूषण पर चिंता जाहिर की गई है| नवंबर 2016 के बाद से 18 लाख नए टैक्सपेयर बने| अप्रत्यक्ष करदाताओं की संख्या में भी बढ़ोतरी का अनुमान लगाया गया है| जीएसटी के लागू होने के बाद से अप्रत्यक्ष कर देने वालो की संख्या में 50 फीसदी का इजाफा हुआ है|

आर्थिक सर्वे में एक्सपोर्ट में सुधार की उम्मीद बताई गई है| इस साल चालू खाता घाटा 1.5 से लेकर 2 फीसदी तक रहने का अनुमान है| वहीं वित्त वर्ष 2017-18 के लिए राजकोषीय घाटा 3.2 प्रतिशत रहने की आशंका जताई है| मौजूदा वित्त वर्ष में कृषि में 2.1 फीसदी बढ़ोतरी होने की उम्मीद है| बजट सत्र के शुरू होने से पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था की यह बजट सपने पूरे करने वाला बजट होगा|

ये भी पढ़े- Railway Budget 2018: 1 फरवरी को होगा पेश, जाने क्या है आपके लिए खास?

Aam Budget 2018: जाने क्या होगा आपके लिए इसमें खास?

मध्य प्रदेश: पुलिस से बदमाशों ने छीनी पुलिस की गाड़ी और वर्दी, इस वारदात को दिया अंजाम

चंद्र ग्रहण 2018: जाने कब और किस समय होगा चंद्रग्रहण

क्या है आर्थिक सर्वे? 

बता दें की आर्थिक सर्वे जिसे इकोनॉमिक सर्वे के नाम से भी जाना जाता है| हर साल पेश किया जाता है| जिसमे पिछले साल के खर्चों का लेखा जोखा होता है| आर्थिक सर्वे के माध्यम से पता चलता है की सरकार ने पिछले साल कहा कितना पैसा खर्च किया और बजट में बताई गई योजनाओं को कितना अमल में लाई| यही नहीं आर्थिक सर्वे से पता चलता है की पिछले साल देश की आर्थिक स्तिथि क्या थी? आर्थिक सर्वे के जरिए सरकार को इकोनॉमी से जुड़े सुझाव भी दिए जाते है|