केंद्र सरकार का बड़ा फैसला बिना आधार कार्ड के खरीद पाएँगे सिम...

केंद्र सरकार का बड़ा फैसला बिना आधार कार्ड के खरीद पाएँगे सिम कार्ड

0
SHARE

केंद्र सरकार का बड़ा फैसला बिना आधार कार्ड के खरीद पाएँगे सिम कार्ड: आने वाले दिनों में सिम कार्ड खरीदने के लिए आधार कार्ड की जरुरत नहीं पड़ने वाली है| अब ग्राहक सिम कार्ड खरीदने के लिए वर्चुअल आधार आईडी के इस्तेमाल से सिम ले पाएँगे| आईडी के रूप में वर्चुअल आधार आदि के इस्तेमाल के लिए टेलीकॉम विभाग ने दूरसंचार सेवा प्रदाताओं से अपनी प्रणालियों और नेटवर्क में जरुरी बदलाव करने का आदेश दिया है| वही मोबाइल ग्राहकों के लिए सीमित केवाईसी का प्रयोग की जा सकेगा|

केंद्र सरकार का बड़ा फैसला बिना आधार कार्ड के खरीद पाएँगे सिम कार्ड

डॉट की यह पहल 1 जुलाई से लागु होने जा रही वर्चुअल आईडी को ध्यान में रखकर की गई है| आपको बता दें की 1 जुलाई से आधार कार्ड की जगह पर वर्चुअल आदि के इस्तेमाल की प्रक्रिया शुरू होने जा रही है| इस बारे में दूरसंचार विभाग ने कल यानि की 12 जून को एक नोटिस भी जारी किया था| इसके अनुसार यूआईडीएआई द्वारा वर्चुअल आईडी के कार्यान्वयन के लिए प्रस्तावित बदलावों को ध्यान में रखते हुए सभी लाइसेंसधारक दूरसंचार कंपनियों को अपनी प्रणाली में उचित बदलाव करना होगा।

मुंबई: वर्ली की 33 मंजिला इमारत में लगी आग, एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण का घर भी है इस बिल्डिंग में

बता दें की वर्चुअल आईडी एक 16 अंको की अस्थायी आईडी है जिसे आधार कार्ड के स्थान पर इस्तेमाल में लाया जा सकेगा| आदर कार्ड जो सुरक्षा और लोगों की मुख्य जानकारी की गोपनीयता को बनाए रखने के लिए वर्चुअल आईडी की शुरुआत की गई है, जो १ जुलाई से देशभर में लागू हो जाएगी|

आइए! जानते है कैसे बनाए वर्चुअल आईडी?

बता दें की वर्चुअल आईडी एक प्रकार की डिजिटल आईडी है जो केवल यूआईडीआई के ओफ्फिकल वेब पोर्टल से ही जनरेट की जा सकती है| यह वर्चुअल आईडी केवल एक दिन के लिए मान्य होगी| जिसे अपनी जरूरत के हिसाब से कभी भी जनरेट किया जा सकता है|

  • सबसे पहले UIDAI के होमपेज पर जाएं
  • अपना आधार नंबर और सिक्योरिटी कोड डाले
  • जिसके बाद आपके रजिस्टर मोबाइल नंबर पर ओटीपी जाएगा
  • ओटीपी डालें, जिसके बाद आपको वीआईडी जनरेट करने का विकल्प मिल जाएगा
  • आपके मोबाइल नंबर पर वीआईडी भेज दी जाएगी, जो 16 अंको का एक नंबर होगा

पिछले महीने ही यूआईडीएआई ने बैंक व दूरसंचार कंपनियों जैसे सेवा प्रदाताओं व एजेंसियों के लिए वर्चुअल आईडी प्रणाली पूरी करने व आधार के बदले इस तरह की आईडी स्वीकार करने की समय सीमा एक महीने बढ़ाकर अब 1 जुलाई की थी।