अब पतंजलि के प्रोडक्ट मिलेंगे ऑनलाइन, जाने किन ईकॉमर्स साइट पर मिलेंगे|

अब पतंजलि के प्रोडक्ट मिलेंगे ऑनलाइन, जाने किन ईकॉमर्स साइट पर मिलेंगे|

0
SHARE

योग गुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने अपनी कंपनी पतंजलि के प्रोडक्ट को ऑनलाइन बेचने की तैयारी शुरू कर दी है| अब लोग घर बैठे ही पतंजलि के प्रोडक्ट अमेजन, फ्लिपकार्ट, पेटीएम मॉल, ग्रोफर्स और बिगबास्केट समेत अन्य बड़ी ईकॉमर्स साइट से खरीद सकेंगे| यही नहीं आप पतंजलि के सामान शॉपक्लूज व नेटमेड्स से भी घर बैठे खरीद पाएँगे| बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने ईकॉमर्स वेबसाइट के अधिकारियों के साथ एक साँझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बात की जानकारी दी| प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बाबा रामदेव ने कहा की अब कंपनी नॉट फॉर प्रॉफिट की ओर बढ़ रही है| उन्होंने कहा की पतंजलि अब महाराष्ट्र के किसानो से संतरे खरीदेगी| उन्होंने बताया की आने 2 सालो के अंदर 1 लाख करोड़ रुपए सालाना कैपिसिटी को तैयार किया जा रहा है| पतंजलि के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर आचार्य बालकृष्ण कहा की आज के समय में लोग ऑनलाइन शॉपिंग को काफी तवज्जो दे रहे है, ऐसे में पतंजलि के प्रोडक्ट को ऑनलाइन सेल करना एक अच्छा विकल्प होगा|

अब पतंजलि के प्रोडक्ट मिलेंगे ऑनलाइन, जाने किन ईकॉमर्स साइट पर मिलेंगे|

बाबा रामदेव ने कहा की हम आने वाले 50 सालो में पूरी दुनिया को जीत सके| इस लक्ष्य को लेकर चल रहे है| पतंजलि आने वाले दिनों में 10 से 12 देशों में नंबर वन कंपनी बन कर उभरेगी| मीडिया से बात करते हुए बाबा रामदेव ने अपने और बालकृष्ण के बारे में कहा की मैंने और बालकृष्ण ने अपनी यह यात्रा गांव से शुरू की थी| हम किसान के बेटे है|

 

ये भी पढ़े- सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मारा एक व्यक्ति को थप्पड़, वायरल हुआ वीडियो

विहिप नेता प्रवीण तोगड़िया का बड़ा बयान, अपने एनकाउंटर की जताई आशंका

यह तो बिल्कुल साफ है की अब पतंजलि का ईकॉमर्स के क्षेत्र में आना कंपनी को ओर बड़ा बना देगा| आपको बता दें की पतंजलि की ई-कॉमर्स साइट www.patanjaliayurved.net है। आचार्य बालकृष्ण ने कहा की स्वदेशी अभियान के मद्देनजर इस बात पर खास ध्यान दिया गया है की कंपनी के यह प्रोडक्ट बिना किसी नीति या व्यापार समझौते के घर-घर तक पहुँचे| बाबा रामदेव ने बताया की हर साल तकरीबन 1 से 2 करोड़ रुपए के प्रोडक्ट बेचने का लक्ष्य बनाया गया है| रामदेव ने बताया की फ़िलहाल कंपनी की प्रोडक्शन क्षमता 30,000 करोड़ रुपए है जिसको अगले साल तक 50,000 करोड़ रुपए तक करने का लक्ष्य है|