1 जनवरी 2018 से चलन से बाहर हो जाएंगे इन 6 बैंको...

1 जनवरी 2018 से चलन से बाहर हो जाएंगे इन 6 बैंको के चेकबुक, जाने कैसे बचे नुकसान से|

0
SHARE

अगर आपका खता इन 6 बैंको में है और आप चेकबुक का इस्तेमाल करते है तो आपको बता दें की भारतीय स्टेट बैंक ने अपने 5 सहयोगी बैंक के चेकबुक की समय सीमा 31 दिसंबर को खत्म होने जा रही है| 1 जनवरी 2018 से ये चेक अवैध होंगे| बता दें की स्टेट बैंक के सहयोगी बैंको में स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद और स्टेट बैंक ऑफ ट्रावनकोर सम्मिलित है| यही नहीं एक महिला बैंक भी एसबीआई का सहयोगी है, जिसके चेक भी अवैध होंगे|

1 जनवरी 2018 से चलन से बाहर हो जाएंगे इन 6 बैंको के चेकबुक, जाने कैसे बचे नुकसान से|

बता दें की इन सभी बैंको का स्टेट बैंक और इंडिया में विलय किया गया था| बता दें की 1 अप्रैल 2017 को इन बैंको का विलय हुआ और एसबीआई ने इन सभी बैंको के चेक को 30 सितम्बर तक ही चलन में रखा था| लेकिन बाद में रिज़र्व बैंक ने इसके समय में बदलाव करते हुए, इसे 31 दिसंबर 2017 तक बढ़ा दिया था| बता दें की इससे पहले तक़रीबन 1300 बैंक बैंक शाखाओं का आईएफएससी कोड में भी बदलाव किया है|

बात दें की अगर आपका भी खता एसबीआई की इन ब्रांचो में है तो आप नए चेक बुक के लिए नजदीकी शाखा या एटीएम या मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से रिक्वेस्ट कर सकते है|

ये भी पढ़े- शादी के बाद धर्म नहीं बदलने पर, पिता और चाचा ने गैंगरेप कर मार डाला|

उतर प्रदेश के उन्नाव में डॉक्टर ने किया टॉर्च जलाकर लोगो की आँखों का ऑपरेशन

  • इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों को बता दें की स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया की वेबसाइट बैंको के विलय के बाद बदल गई है| ये है नहीं साइट www.onlinesbi.com
  • अगर ऊपर बताए गए बैंको में से किसी में अकाउंट है तो आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है| आप अपने पुराने पासवर्ड और लॉगिन आईडी का प्रयोग कर अपने बैंक से जुड़े सभी काम इस वेबसाइट के माध्यम से निपटा सकते है| अगर आपकी आईडी या पासवर्ड ठीक से काम नहीं कर रहा है तो नजदीकी स्टेट बैंक की ब्रांच या टोल फ्री नंबर पर शिकायत कर सकते है|
  • एसबीआई ने अपने आधिकारिक बयान में बताया है की विलय हुए बैंको की इंटरनेट बैंकिंग तथा अन्य फीचर्स स्टेट बैंक की नेट बैंकिंग के समान है|
  • बैंको के विलय के बाद आपको अपने मोबाइल नंबर को फिर से रजिस्टर करने की आवश्यकता नहीं है| हां लेकिन आपको एसबीआई की नई वेबसाइट पर आपको अपनी ईमेल आईडी रजिस्टर करनी पड़ेगी|