जाने गणेश रुद्राक्ष का महत्व और उसके लाभ, इसे प्रयोग करने की...

जाने गणेश रुद्राक्ष का महत्व और उसके लाभ, इसे प्रयोग करने की पूरी विधि के बारे|

0
SHARE

Ganesha Rudraksha Price, Prayog Vidhi, Labh: मनुष्य अपने जीवन में आई समस्याओं के निपटारे के लिए भगवन का सहारा लेते है| यही नहीं लोग चमत्कारी रत्नो का सहारा भी लेते है| एक और चीज है जिसके बारे में शायद आप जानते होंगे वो है रुद्राक्ष जो भगवन शिव के सबसे करीब माना जाता है| ऐसी मान्यता है की रुद्राक्ष का निर्माण भगवान शिव के आँसुओ से हुआ था|

जाने गणेश रुद्राक्ष का महत्व और उसके लाभ, इसे प्रयोग करने की पूरी विधि के बारे|

आपको बता दें की रुद्राक्ष अलग-अलग प्रकार के पाए जाते है| सबसे श्रेष्ठ गणेश रुद्राक्ष को माना जाता है| भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र गणेश को देवों में सबसे श्रेष्ठ देव का स्थान मिला हुआ है| ऐसा माना जाता है की रुद्राक्ष को धारण करने से सभी परेशानी से निजात मिल जाती है| इसको धारण करने से मनुष्य का स्वास्थ्य भी ठीक रहता है| ऐसा कहा जाता है की गणेश रुद्राक्ष को धारण करने से किसी भी काम में निर्णय लेने की क्षमता में वृद्धि होती है| भगवान गणेश को बुद्धि का देवता माना जाता है, यही कारन है की छात्रों के लिए गणेश रुद्राक्ष काफी लाभकारी साबित को सकता है|

गणेश रुद्राक्ष के लाभ

  • गणेश रुद्राक्ष को धारण करने से सभी तरह के क्‍लेशों से मुक्‍ति मिलती है। विशेष फलदायी यह रुद्राक्ष कई समस्याओं का समाधान स्वत: ही कर देता है।
  • गणेश रूद्राक्ष पहने हुए एक व्यक्ति को जीवन के सभी क्षेत्रों में से सफलता प्राप्त होती है।
  • भगवान गणेश भगवान शिव के पुत्र हैं इसलिए भगवान शिव का और देवी पार्वती (महा देवी) जी का भी आशिर्वाद प्राप्त होता है।
  • गणेश रुद्राक्ष को धारण करने से केतु के अशुभ प्रभावों से भी मुक्‍ति मिलती है।

गणेश रुद्राक्ष की प्रयोग विधि

इसे गणेश चतुर्थी के दिन धारण किया जाए तो यह और भी शुभ फलदायक होता है। गणेश रुद्राक्ष को सोमवार के दिन धारण करना चाहिए।

आकार एवं उत्‍पत्ति : गोलाकार नेपाली रूद्राक्ष
वजन (ग्राम) : ~3.0-4.0
माप : ~18.1
सर्टिफिकेशन: Astrovidhi
रंग: गहरा भूरा

हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान गणेश को संकट हरण माना जाता है| वही यह रिद्धि-सिद्धि के स्वामी भी माने जाते है| जो लोग गणेश रुद्राक्ष को धारण करते है, उनके जीवन में इसका सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलता है| इसे धारण करने से कष्टों के निवारण में मदद मिलती है| गणेश रुद्राक्ष को मोक्ष की प्राप्ति के लिए काफी अच्छा माना जाता है| गणेश रुद्राक्ष पर भगवन गणेश की आकृति बनी हो और उनकी सूंड की आकृति बनी हुई हो, इस प्रकार के रुद्राक्ष को गणेश रुद्राक्ष माना जाता है|

ये भी देखे- सूर्य ग्रहण 2018: जानें कब और किस समय लगेगा सूर्य ग्रहण, भारत में दिखाई देने का समय

विजया एकदाशी 2018: विजय प्राप्ति के लिए रखा जाता है भगवान विष्णु का व्रत, जाने महत्व

आप गणेश रुद्राक्ष को लाल धागे, सोने या फिर चाँदी की चेन के साथ भी धारण कर सकते है| गणेश रुद्राक्ष को धारण करने के लिए सोमवार का दिन सबसे अच्छा माना जाता है| गणेश चतुर्थी का दिन भी काफी शुभ होता है| ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक किसी भी प्रकार के रत्न या रुद्राक्ष को धारण करने से पहले किसी विद्वान् या पंडित जी से परामर्श जरूर ले| रुद्राक्ष या रत्न तभी काम करते है जब उनका योग आपकी कुंडली में हो| कुंडली में ग्रहों की दिशा और दशा के हिसाब से ही रुद्राक्ष या रत्न को धारण करने पर विचार करना चाहिए|